मेवाड़ पतन | Mevaar Patan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Mevaar Patan by द्विजेन्द्रलाल राय - Dvijendralal Rayरामचन्द्र वर्मा - Ramchandra Verma
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
4 MB
कुल पृष्ठ :
174
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

द्विजेन्द्रलाल राय - Dvijendralal Ray

द्विजेन्द्रलाल राय - Dvijendralal Ray के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

रामचन्द्र वर्मा - Ramchandra Verma

रामचन्द्र वर्मा - Ramchandra Verma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
दस्य ।] पहला अंक 1 ইमदसे पागल और अनन्‍्धे हो रहे हैं। चलो, इस वार सर्वस्व नष्ट हो जायगा।अजय ०---राणाजीने भी तो यही कहा था कि अब मुगलों- का मुकानला करना मेवाडके छिए असम्भव है, इसलिए व्यथे रक्त- पात क्यो किया जाय *गोर्विद्‌ ०--अजय ! क्‍या तुम भी उन्हींकी तरह हो गये £ क्या तुम चाहते हो कि हम छोग दास होकर जुएँमे गला फेंसा दें १ मैं जानता हूँ कि मुगछक दिलछीके बादशाह है, और बादशाहके विरुद्ध विद्रोह करना पाप है ! लेकिन मेवाड राज्य भी तो अभी तक स्वाधीन ही है। जब तक गोविन्दसिंहके शरीरमे प्राण है तब तक उसकी स्वाधीनता नष्ट न होने पायगी । ख्गातार सात सौ वर्षसि मेवाडकी जो रक्त ध्वजा हजारो ओधियो ओर बिजल्योकी परवा न करके अभिमानपूर्वैक उड रही है, वह क्या केवल मुगलोकी छाल छाल अंखिं देखकर गिर जायगी ? कभी नहीं । तुम जाओ ओर राणाजीसे कह दो कि मै आता हूँ।[ अजयसिंह जाते हैं । ]( अजयर्सिहके चले जानेपर गोविन्दर्सिह दीवारपरसे टेंगी हुई तलवार उतारते है उसे धीरेधीरे म्यानसे बाहर निकालते हैं और तब उसे सम्बोधन करके कहते है )--...“ मेरी प्यारी साथ देनेगटी ! देखो, जबतक तुम मेरे हाथमें रहो तब तक महाराणा प्रतापसिंहका अपमान न होने पावे | प्यारी | इतने दिनो तक मैं तुम्हे भूठ गया था, शायद इसीलिए तुम इतनी मलीन हो रही हो ! लेकिन तुम व्याकुल मत होओ | इस बार मैं तुम्हें अपने साथ मेवाडके युद्धमें ले चढूँँगा । तुम्हें मुगलोंका गरमा- गरम रट्टू पिछाऊँगा। तुम मुझे क्षमा करो और मुझसे गके मिक्ो। ”?




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :