आरएयक | Aareyak

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : आरएयक  - Aareyak

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about विभूतिभूषण वन्द्योपाध्याय - Vibhuti Bhushan Vandyopadhyay

Add Infomation AboutVibhuti Bhushan Vandyopadhyay

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प, मगर अपनी यह स्मृति आनंद की नहों, दुःख की है 1 स्वच्छंद प्रकृति की वह लोछा-भूमि मेरे ही हाथों विनष्ट हुई। में जानता हूँ कि इसके लिए चन-देवता मुझे कभी साफ न करेंगे। सुना है, अपने से अपने अपराध की वात कहने से उसका भार थोड़ा हल्का होता हैं! इस कहानी की जवतारणा इसीलिए हुई है।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now