हस्त रेखा विज्ञान | Hast Rekha Vigyan

8 8/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Hast Rekha Vigyan by गोपेश कुमार ओझा - Gopesh Kumar Ojha

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about गोपेश कुमार ओझा - Gopesh Kumar Ojha

Add Infomation AboutGopesh Kumar Ojha

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
हद १४वा प्रकरण--सुर्य-रेखा भारतीय मत--पाश्वात्य मत--सूयं रेखा भर भाग्य-रेखा के फूलों में समानता--सुयं रेखा के गुण--यदि सुय॑ रेखा न हो-- सु्रेखा की लम्बाई--सूयंरेखा के प्रारम्भिक स्यान--सूर्य- रेखा के गुण-दोप--विविध चिह्लो के लक्षण तथा फल-- का श्रन्त तथा भ्रन्त में चिह्न का के चिह्न का शुभफल--यदि दो तारे के चिह्न हो--दोनो सिरो पर तारे के चिह्न का विज्षेष फल--यदि भरत में श्राडी रेखाओं से कट्टी हो--मद्दीप चिह्न का का श्रशुभ फल--वर्ग चिह्न से रक्षा--यदि ग्रत में दो शाखा- युक्त हो--पूय॑-रेखा की शाखाएँ--सक्षण श्रौर फल । २७०-२५७ १४वा प्रकरण--स्वास्थ्य-रेखा लक्षण श्रौर फल--स्वास्थ्यरेखा का प्रारम्म--इस पर दोष- चिह्न, स्वास्थ्य-रेखा का रग--पदि स्वास्थ्य-रेखा लहरदार हो--प्रत्य दोप--स्वरास्थ्य-रेखा से भाग्योदय विचार--स्वास्थ्य- रेखा से निकली हुई शाखाएं--स्वास्य्य-रेखा का श्रन्त-- उपसहार। २८५-३ ०१ १६वा प्रकरण--विवाह-रेखा लक्षण--भारतीय मत, पाइचात्य मत--सामाजिक भेद के भ्रनुसार फल में विभिन्नता--विवाह-रेखा से विवाह के समय का भ्नुमान---कई छोटी का फल--प्रन्य लक्षणों के योग से विवाहरेखा के विविध फल--द्वीप चिह्न का श्रनिष्ट फल--विवाह से भाग्योदय--यदि ध्रुमी हुई विवाह रेखा पर क्रास हो--द्विशाखा युक्त विवाह रेखा--वैवाहिक जीवन में कलह यां सम्बन्ध विच्छेद--विवाह-रेखा काम्रन्त--इसकी शालाएँ--इस पर. विविध चिज्ठ--विवाह-रेखा का श्रन्य रेखा से । ३०६-३२०




User Reviews

  • Shubham

    at 2018-07-12 18:06:41
    Rated : 8 out of 10 stars.
    Bhut sundar
Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now