सोहन काव्य-कथा मंजरी | Sohan Kavya Katha Manjari

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sohan Kavya Katha Manjari by श्री वल्लबमुनिजी - Shree Vallabmunijee
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
4 MB
कुल पृष्ठ :
116
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्री वल्लबमुनिजी - Shree Vallabmunijee के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
ज्ञान लगाकर देखा देव ने, लज्जा तो है इन माँही, उस ही क्षण सब समेट माया, आवाज दी गुरुवर ताँही। आँखें खोली कुछ नहीं दीखा, शिष्य कहे सब समभाई, यह सारी मेरी माया थी, मैं विनोद हूँ ग्रुरुराई।गुरु कहे मैं भ्रष्ट होगया, कैसे मुझे बचाओोगे ॥११।॥देव कहे सब स्वर्ग नरक है, फरक नहीं जिन वचनों मे, कुछ ही क्षण में डिगे आप तो, श्रद्धा नहीं प्रभ्नु कथनों में । देखा आपने छः महीने तक, भूख प्यास का पता. नहीं, तो कैसे आवे यहां देवता, नाटक में रहे मस्त वहीं।जीवन सफल तभी होवेगा, संयम आप निभाश्रोगे ।१२।।उसदही क्षण ले संयम फिर से, शुद्ध साधना कीनी है, জিন वचनों पर श्रद्धा करके, राह मुक्ति की लीनी है। प्राज्ञ प्रसादे सोहन मुनि कटै, श्रद्धा बिन मुक्ति नाही, देव, गुरु श्रु दया धर्मं को, लो जीवन में श्रपनाई।जन्म मरण के दावानल से, सद्य मुक्त हो जावोगे ।।१३।।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :