ब्राह्मणवंशेतिवृत्तम [द्वितीय भाग] | Brahmanvanshetivrittam [Part 2]

Brahmanvanshetivrittam by परशुराम शास्त्री - Parshuram Shastri

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about परशुराम शास्त्री - Parshuram Shastri

Add Infomation AboutParshuram Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
रो च्राद्मगाय॑ शो निनुत्ञम | सारखत ज्राह्मणों के शासन निम्नालिखित हैं!--- #7 # 6 ^ [email protected] ० ए ,0 ल शारद' ললনাকে + सेल शंड বান কে হই श्रीश्वर मीरर मुफाती र्जीहर, लाहशए মক মহা मिश्च मैने मदद भेष मदरे मफड़े * घाश्चले भरदियाक्त ১০৯] भखूल दलाइलिये परसं पन्याल - , परिडत साफ तादी ४५ ४६ ४७ 8८ ४६ पु সি ५३ ९५९५ प ५ धृट ५६ ६० धानिऋऊ कान्य कुटलीडये कमादरटाये হাল गदे।तरे चपड़ी दिये निन्ये হিয়ার दिरपोर छकीतर जलरेश्ये दुभा भुमुख्यि। झील জবাই बेस गोडरे ' पाघे ढोल चालचैये मगोत्तरे केसर भाद কহ अधने कटे 1 चरे र काएमीरी पण्डित कप्य > भस्ड




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now