रामायण | Ramayan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Ramayan  by गोस्वामी तुलसीदास - Goswami Tulsidas

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

गोस्वामी तुलसीदास - Goswami Tulsidas के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(दो° गुरु हरि हर गणईश धी, सुमिरों तुलसीदास । है| १0 के 9 | | ॐ! कक ॐ ॐ अीगरशेशाय ললঃ। प्क $ || পি টি क | 2 ২: 2]. 1 পু ९४ 20; ১৯১২৮ 1 হু । টা । (४, 9 कि “ कै , 1 সু पृ 1৬ 4.) | मै হাহ ৮ ৬ গর है ! আত | बे | 1 ॐ 1% ১ 2 7 ४ रामायणमाहात्म्य (६ 4 % | के [ € है है | 48 फ 1. 16, 8 1 ॐ গু च ধু | क. হু 63 ~| ৪০০18 ता ककतकरतगोपाल महा त्म्यश्री, रामायण सुखरास ॥ण रामायण सुरतरे की चाया ® दुख भय दरि निकट जो आया এ१ +~ ५| सप्काए्ड. स्कन्ध॒सोहाई ® दाहा लघु शाखा छविछाई ‹1 शुंचि सोरठा सीटका कोई #& पत्री बहु चोपाई जोई†अन्दन कौ शोभा अतिरूरी ® जनु नवीन अंकुर छाविषूरी |# अच्तर सुमन रदे गहगाई ® अति अदभुत सुगन्ध कविता #४ विविषप्रकार আখ सोहं फल ® भोता सुमति स्वादु जने भल > भङ्कि ज्ञान वैराग्य सरकं रस ® बीजदोय नि्ंण सगुण अस >मुमि भुशुगिड शिव प्रथमहिं गाई # सोइ गाई नगदेत॒गोसाह টু॥१ विष्णु २ कल्पवृक्ष ३ पास ४ पवित्र ५ अनूठी < नये ७ फूल ८ रससमेत ।।সি । ৪৪৮ ও উস है ৪টি (गि भ्ये (ब (यो প্র1 ঠা




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :