बकरी | Bakari

8 8/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : बकरी - Bakari

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

कविता नागपाल - Kavita Naagpal

No Information available about कविता नागपाल - Kavita Naagpal

Add Infomation AboutKavita Naagpal

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना - Sarveshwar Dayal Saxena

No Information available about सर्वेश्वर दयाल सक्सेना - Sarveshwar Dayal Saxena

Add Infomation AboutSarveshwar Dayal Saxena

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सिपाही : गांघों जी की ?ै इन ४ हा, हां, महात्मा गांधी को, मोहनदास कर्मचद गाधी! अच्छा बताओ यह बया देती है ?ै सिपाही : दूघ। डे £ नहीं। कुर्सो, धन और प्रतिष्ठा। (कुछ रुककर) अच्छा बताओ, यह क्या छाती है ? 2 तह बुद्धि, बहादुरी और विवेक। यह गाघी जी की बकरी है। दोनों : (माचते याते हैं) 'उड् करी न अह करी जी की बकरी, हर किला फतह करी गांधी णी की बकरी, शत्रु को जिवह करी गाघों जी को बकरी । दुर्जव : दीवान जी ! एलान कर दो, हमे गांधी जो की बकरी मिल गई है। लोग दर्शन करते आएं, पर खाली हाय नहीं। दोनो : साथ मे कुठ लाएं, घत दौलत, रुपया पैसा 3 सिपाही : पर लोग मानेंगे कृसे कि यह गाधी जी की बकरी है ? दोनों : हम मानेंगे तो लोग भी मानेंगे । अपता मन चगा, कढौती ঈমযা। दुर्जत : यू समझो दोवान जो कि इस बकरी की मा की साबी মানা হানা ; माकी माङो माङो माकी मारी माकोमाकी--ः दुर्जेन : मा, गाघी जी के पास थी। सिपाह ४ (उछलकर) समझ गएा। जब कुर्तो का छावदान होता है तो बकरी का बयों नहीं दो सकता ?ै दुर्जत : यह हुई ने समझदारों को बात । दीवार थो, यह गांधी जो बकरी : १६




User Reviews

  • Nitin

    at 2020-05-09 08:01:28
    Rated : 8 out of 10 stars.
    लेखक सर्वेश्वर दयाल सक्सैना किताब में कुछ पेज गायब है साथ ही कुछ पेज सही तरह से स्कैन नहीं है
Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now