अब्बू खां की बकरी | ABBU KHAN KEE BAKRI

Book Image : अब्बू खां की बकरी - ABBU KHAN KEE BAKRI

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

ज़ाकिर हुसैन - ZAKIR HUSSAIN

No Information available about ज़ाकिर हुसैन - ZAKIR HUSSAIN

Add Infomation AboutZAKIR HUSSAIN

पुस्तक समूह - Pustak Samuh

No Information available about पुस्तक समूह - Pustak Samuh

Add Infomation AboutPustak Samuh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
01 ! , | को खींचती और अजीब 1 2 0! 1 00700 आग 11717 सुबह उाब अब्बू खाँ ने दूध दुह लिया तो चौँदनी ने उनकी तरफ अपनी; जुबान में अब्बू खाँ मियाँ,.में अब हो जाएगी। मुझे तो तुम पहाड़ पर . की बोली लगे थे।* द ये भी जानें को कहती है, ये भी | “'तो फिर क्या रस्सी ने कहा, “इससे क्या क्रो है?” अादनी ने जवाब दिया लम्बी कर दूंगा।' बात है? त॑ र्् धोनी बोली, वा नहीं अरी कम नसीब, तुझे आय || श््ः कु हट कक तह आशा हः 1ध




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now