सुन्दरकाण्ड | Sundarkand

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Shrimadwalmiki - Ramayan (sundar - Vi) by द्वारका प्रसाद - Dwarka Prasad

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

द्वारका प्रसाद - Dwarka Prasad के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(२) ७ बन पाँचवाँ सगे ञ हि चन्द्रोद्य चर्णन ।- तहुपरान्त राषण की खतरों के छाततेक प्रकार से पट्टी हुई देख झोर जानकी जी के कहीं न पाते के कारण हनुमान की का दुःखी होता । छठवाँ से ९०-१०० तदनन्तर हृसुमान जी का, रावण के अमात्य पह- स्तादि के.घरों को समृद्धि तथा राबण की शिविका तथा उसके लता मगटपादि का देखना । . छः ९ सातवाँ सगे . १०१-१०७ हनुमान ज्ञी हारा पुष्पकषिमताव का देखा ज्ञाना और ज्ञामक्ो जी के न देखने के कारण हसुमान जी का मन में दुश्खी होना । हु 0 आव्वाँ सगे 1, १०८-१११ (पुपकपिमान वर्णन । नरवाँ सगे १११-१२९ पृष्फकविमान पर चढ़ कर हनुमान जी का रावण के चारों घर पड़ी हुई सुन्द्रियों के देखना ।देसवाँ सगे १९९-१४२ | छु्दार्यो का वशन तथा मन्दोदरी के देख हमुमान ज्ञी का उसके सीता होने का श्रम होना | ॥ ग्यारहयाँ संग १४२-१५२ ' शावण की पानशाला धझोरहे वर्हा नशे में चूर पड़ो हुई सुन्द्रियों को देखते हुए दनुमान ज्ञो का ै पे मद सीत्ता कं खोज




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :