कुण्डलिया | Kundaliya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : कुण्डलिया  - Kundaliya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about खेमराज श्रीकृष्णदास - Khemraj Shrikrashnadas

Add Infomation AboutKhemraj Shrikrashnadas

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
कुण्टलियानग० । (२७) प्वहारी जो होय तऊ तन मन घन दन॥«६।॥ ४5 घोड़े आउततदि गदहइन आये राज । गआ लीन हाथर्भे इरिफीमियेयाज ॥ रिकीजिये बाज राज पुनि ऐसे भआायो । पह कीजिये केद सस्‍्थार गमेराज चढ़ायो ॥ 5ह गिरिधर कपिराय जहा यह वृजझि बढाई। हा न कौन भोर साझ उठि चडिये साई॥५७॥ /ई अवृसरके पड़े कान सह दुसद्वन्द । ;य पकाने डोमघर वे राजा हरिचन्द ॥ : शाजा हरिचन्द्र कर मरघट रासवारी । (रे तप्स्‍वी वेप्‌ फिरे अजुन बलघारी ॥ _ह गिरिधर काविराय तंपे वृह भीम रसोंई। शिन करे घटिकाम परे अवसरके साई ॥ ५८ 0॥ उसमे चछे पिदेशकर् कार्ची ठादि कुम्दार ॥ पीकतु वरिनिभई वबादर कीन्होंमार ॥ गदर कीन्होंमार इंते उत कृझु्नाह सुझे ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now