कल्याण [वर्ष ७७] | Kalyan [ Year 77]

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : कल्याण [वर्ष ७७] - Kalyan [ Year 77]

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about विभिन्न लेखक - Various Authors

Add Infomation AboutVarious Authors

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
'किड्लिणीमझुलं दर त॑ं भजे' अच्युतं. केश रामनारायणं कृष्णदामोदर॑ बासुदेव॑ हरिम्‌। श्रीधर॑. माधवं गोपिकावल्लभं जानकीनायकं रामचन्द्रं भजे॥ १॥ अच्युतं केशवं सत्यभामाधवं माधवं . श्रीधर॑ राधिकाराधितम्‌। इन्दिरामन्दिरं.. चेतसा. सुन्दर देवकीनन्दन॑ नन्दजं. संदधे॥ २॥ विष्णवे जिष्णवे शडह्धिने चक्रिणे सुक्मिणीरागिणे जानकोजानये। वल्लवीवल्लभायाचबितायात्मने . कंसविध्वंसिने वंशिने ते. नमः ॥ ३॥। कृष्ण गोविन्द हे राम नारायण श्रीपते वासुदेवाजित श्रीनिधे। अच्युतानन्त. हे... माधवाधोक्षज.. द्वारकानायक .... द्रौपदीरक्षक ॥ ४ ॥ हि सीतया. शोभितो दण्डकारण्यभूपुण्यताकारण: । लक्ष्मणेनान्वितो वानरै: सेवितोगस्त्यसम्पूजितो राघव: पातु माम्‌ू॥ ५॥ धेनुकारिष्टकानिष्टकृदू.. द्वेषिहा.. केशिहा.... कंसहद्रंशिकावादकः । पूतनाकोपक: सूरजाखेलनो बालगोपालक: पातु मां. सर्वदा॥ ६॥ विद्युद्द्योतबत्प्रस्फुरद्वाससं प्रावृडम्भोद्वत्प्रोल्लसद्विग्रहम्‌। वन्यया मालया शोभितोर:स्थलं लोहिताडब्रिद्वयं॑ वारिजाक्ष॑ भजे॥ ७ ॥ कुद्धितै: _ कुन्तलैभध्रजिमानाननं रत्ममौलिं _ लसत्कुण्डलं॑ गण्डयो: । हारकेयूरकं कड्णप्रोज्न्चलें॑ किड्लिणीमसुलें. श्यामलं ते भजे॥ ८ ॥ अच्युतस्वाष्टक॑ य: . पठेदिष्टद॑ प्रेमत: . प्रत्यह॑ं. पूरुष: सस्पृह्म्‌। वृत्तत: . सुन्दर कर्तृविश्वम्भरस्तस्य. वश्यो हरिजायते सत्वरम्‌॥ ९॥ ॥ डति आऔसच्छड्टराचार्यकृतपच्युताहकं सम्पूर्णप्‌ # अच्युत, केशव, राम, नारायण, कृष्ण, दामोदर, वासुदेव, हरि, श्रीधर, माधव, गोपिकावल्लभ तथा जानकीनायक श्रीरामचन्द्रजीको मैं भजता हूँ ॥ १ ॥ अच्युत, केशव, सत्यभामापति, लक्ष्मीपति, श्रीधर, राधिकाजीद्वारा आराधित, लक्ष्मीनिवास, परम सुन्दर, देवकीनन्दन, नन्दकुमारका मैं चित्तसे ध्यान करता हूँ॥ २॥ जो विभु हैं, विजयी हैं, श्भ-चक्रधारी हैं, रुक्मिणीजीके परम प्रेमी हैं, जानकीजी जिनकी धर्मपत्री हैं तथा जो व्रजाज़नाओंके प्राणाधार हैं उन परमपूज्य, आत्मस्वरूप कंसविनाशक, मुरलीमनोहरको मैं नमस्कार करता हूँ. ॥ ३॥ हे कृष्ण! हे गोविन्द! हे राम! हे नारायण! हे रमानाथ। हे वासुदेव ! हे अजेय! हे शोभाधाम! हे अच्युत! हे अनन्त! हे माधव! हे अधोक्षज (इन्द्रियातीत) ! हे द्वारकानाथ! हे ट्रौपदीरक्षक! (मुझपर कृपा कीजिये) ॥ ४ ॥ जो राक्षसोंपर अति कुपित हैं, श्रीसीताजीसे सुशोभित हैं, दण्डकारण्यकी भूमिकी पवित्रताके कारण हैं, श्रीलक्ष्मणजीद्वारा अनुगत हैं, वानरोंसे सेवित हैं और श्रीअगस्त्यजीसे पूजित हैं; वे रघुवंशी श्रीरामचन्द्रजी मेरी रक्षा करें ॥ ५ ॥ धेनुक और अरिष्टासुर आदिका अनिष्ट करनेवाले, शन्रुओंका ध्वंस करनेवाले, केशी और कंसका वध करनेवाले, वंशीको बजानेवाले, पूतनापर कोप करनेवाले, यमुनातटविहारी बालगोपाल मेरी सदा रक्षा करें ॥ ६ ॥ विद्युत्पकाशके सदृश जिनका पीताम्बर विभासित हो रहा है, वर्षाकालीन मेघोंके समान जिनका अति शोभायमान शरीर है, जिनका वक्ष:स्थल वनमालासे विभूषित है और जिनके चरणयुगल अरुणवर्ण हैं; उन कमलनयन श्रीहरिको मैं भजता हूँ ॥ ७॥ जिनका मुख घुँघराली अलकोंसे सुशोभित है, मस्तकपर मणिमय मुकुट शोभा दे रहा है तथा कपोलॉपर कुण्डल सुशोभित हो रहे हैं; उज्ज्वल हार, केयूर (बाजूबन्द), कड्लण और किड्लिणीकलापसे सुशोभित उन मजुलमूर्ति श्रीश्यामसुन्दरको मैं भजता हूँ ॥ ८ ॥ जो पुरुष इस अति सुन्दर छन्दवाले और अभीष्ट फलदायक अच्युताष्टकको प्रेम और श्रद्धासे नित्य पढ़ता है, विश्वम्भर, विश्वकर्ता श्रीहरि शीघ्र ही उसके वशीभूत हो जाते हैं ॥ ९ ॥ अल! रू अस्टकसकल १ के /वस्ल




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now