ब्रह्मसूत्र शांकरभाष्य - रत्नप्रभा | Brahm Sutra Shankarabhashya - Ratn Prabha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : ब्रह्मसूत्र शांकरभाष्य - रत्नप्रभा  - Brahm Sutra Shankarabhashya - Ratn Prabha

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about चण्डीप्रसाद शुक्ल - Chandiprasad Shukla

Add Infomation AboutChandiprasad Shukla

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
1 कर हक हू ह् & 7-12: ४4३२४ # 0३७ का एक उतर 5 मु अ इन लक कट एव 7 ६५ 2 अल खत “अल ् कक 2 प्र्य्भ्य्््श््क्र्ख्् 5155 22 12120 23:62 2: 2:22: क व + ७००७७ »० -कैक०७०4#जी - 43 काकर् ५२७०७ ८०० ५: का... ०. ढं-आब्य षु ' 31४. हर ह् डे न ६ + ४ 2 (कर 54] हे 1; >०++०+०+५«-++०नीअनिनीिओजी-> + 5 लंड ओ न अनिल + * _+५ ४ ४+-+++ ह>स-बन लक क्‍न वफिनननीणक हट अंक »क तल ५ 1 रन +>तव (धवन 5 के अल: 0-० 71 कई: 1 फटा. कट ऊपर 1 कीन्‍+०क०७३कगात हि. >महकका 2 >कर+>>नन पलक “याची कमाए. जार »े -++-+->ज >त ५ | शरद | विषय ... पृष्ठ पडक्ति पूवपक्षका खण्डन [ सिद्धान्व |]... #.« ,.,.. २४०२- ७ सूत्र--भृतछ ततच्छत ४॥२।1३।७० ५७» ००० २४०४ - २४ ग्राणोंसे सम्प्क्त जीव देहके बीजमूल सूक्ष्म भृतोंमें रहता है ..... श४०५- ५ सृत्र--नेकस्मिन्‌ दशयतो हि ४॥२॥३।६ ० न र४छ है ++ फेज अन्य शरीरदी प्राप्रिमं जीव केवल तेजमें नहीं रहता शक घ४०७ + श आसत्युपक्रमाबिकरण ७२४1७ [प्र० २४०९-२४१३। छेथ जधिकरणका सार हो पु ४०५ २४०९ - ६ सूत्र--समाना चारत्युपक्रमादसतत्व चानुपोष्य ४।२।४।७ मल २४०९ - ११ विद्वान और अविद्वानकी गति भिन्नन्भिन्न हैं [ पूथपक्ष | ,,.. २४१० - २ विद्वान और अविद्वानकी गति समान ही है [ सिद्धान्त | ... २४१२-०२ संसारव्यपदेशाधिकरण ४/१₹/१॥८-११ [प्र० २४१३-२१४१८] सं अधिकरणका सार हर के जप २३४१३ - १५ सूत्र--तदाञपीते: संसारव्यपदेशात्‌ ४॥२॥५७८ .. ... श २४१४ - १ ७. >> जे ९ करणसहित तेजकी ब्ह्मसम्पत्ति आत्यन्तिक होती है [पृथ्रपक्ष २७१७४ + ८ तेज आदि भूतसूक्ष्म सम्यक्‌ ज्ञानसे जब तक मोक्ष न हो तब तक रहते हैं [ सिद्धान्त |... का ,.. २४१५- ४ सूतज--सक्ष्म श्रमाणतश्च॒ तथोपलब्धेः ४॥२५॥९५.... हा २४१६ - ९ जीवका आश्रय इतरभूतसहित तेज स्वरूपसे और प्रमाणसे सूक्ष्म है २४७१६ - १७ सूत्र--नोपमर्दनातः ४1२:५।१० शक हम २४१७ - १९ स्थूछ शरीरक उपम्दसे सूक्ष्म शरीर॒का नाश नहीं होता है .... २४१७ - २६ सूत्र---अस्येव चोपपत्तिरेष. ऊष्मा ४॥२।५1११ ५० जा २७४१८ - १ सूक्ष्म शरीरकी उष्णता स्थूल शरीरमें उपछवष्ध होती है ..... २४१८ - १० ६छ अधिकरणका सार बे 0. का 2१९ - ६ सूत्र-प्रतिषिधादिति चेन्न झारीरातू ४५४३६।)१२ .,..... »... २४१९ - १३ ब्ह्मवेत्ताके प्राणोंका भी शरीरसे उत्करमण होता है [ पूर्वपक्ष | १४५० - ४ सूत्र--स्पशे ह्ेकेषास्‌ ४॥२।६॥१३ कु हे नि २४२%७%- 1१ ब्रह्मत्त्ववेत्ताके भाणोंका देहसे उत्क्रमण नहीं होता [ सिद्धान्त | २७२० - १० उष्त सिद्धान्तमें आतभागके प्रश्नकां कुथन .... डे २४२२ - १० पञश्चमी ओर पष्ठीके पाठभेदसे भी देहसे उत्क्रमण प्रतिषिद्ध होता है. २७२४ - 8. सूत्र-स्मयते च ४1२।६।१४ ४ ०«- २४२६ -+ १ गति ओर उत्क्रान्तिके क्रभावमें महाभारतका वचन न २४२६ -+ ९ + ख जार




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now