उज्जवल तारे | Ujjwal Tare

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Ujjwal Tare by अयोध्यानाथ शर्मा - Ayodhyanath Sharma
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
3 MB
कुल पृष्ठ :
178
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अयोध्यानाथ शर्मा - Ayodhyanath Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
व छज्ज्वज्ञ तारेपातिध्रन-धर्म उत्तना हो ज्वलत है, जितना भगवान्‌ रामचढ़ की अर््धागिनी का या किसी एक-पतिवाली सत्ती खो का। यह उसके पातिनत-घर्म का ही प्रताप था, जो कौरे की सभा में भगवान्‌ ने उसकी ल्लाज रखां। पातिब्रत-घर्म के सबंध में उस समय भी वही भाव थे, जो ऋाज हैं, बल्कि यह फहिए कि स्रियो का सतील-धर्म ही उस समय हिदू-ससमाज की रक्षा कर रहा था। पति के सग जलकर सती हा जाने की प्रथा उस समय भी थी और नकुत्त-सद्ददेव की माता, माद्रों, अपने पति याडु के साथ एक चिता पर जल्लकर पति के पीछे- पीछे ख्र्ग गई थी। परतु सभी स्त्रियाँ नहीं जलतो थीं। वे पति के पीछे भी ससार में रहकर अपना धर्म निबाहती और करत्तंव्य-पालन करतो थीं। उस सभ्य स्त्रियाँ शास्त्र समभतोीं और शास्त्र की चर्चा भी करती थी। पर यह कल्पना रूढ़ है| चली थी कि स्त्रियो का मोक्ष का अधिकार नहीं है--जेसा कि, गीता के एक श्लोक से प्रतीत होता है। कज्षत्रिय-राजपुरुषपाो और राजस्त्रियों फे इस वणन से उस समय को सबंसाधारण र्त्रियों फी स्थिति का भी अमुमान हा सकता है ।चातुर्वश्य-व्यवस्थाउस समय फी परिस्थित्ति में एक बात विशेष रूप से यद्द दिखाई देती है कि अद्य बल से ज्ञाच-बल की प्रतिष्ठा अधिऊ दो




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :