वैज्ञानिकों का बचपन | Vaigyanikon Ka Bachapan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : वैज्ञानिकों का बचपन  - Vaigyanikon Ka Bachapan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about शुकदेव प्रसाद - Shukdev Prasad

Add Infomation AboutShukdev Prasad

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
शैलीलियो गैलिलाई (1564-11 642) विश्व के इतिहास में वर्ष 1564 का बड़ा महत्त्व है। इस वर्ष दो महान्‌ विभूतियाँ संसार में आई--शेक्सपियर और गैलीलियो गैलिलाई | एक साहित्य के क्षेत्र का दिग्गज और दूसरा विज्ञान का महारथी । गैलीलियो ने तो उस समय धर्म एवं अंधविश्वासों में डूबे समाज को नई दिशा दी, मगर उसके वैज्ञानिक विचारों का जमकर विरोध ही हुआ । तब यह बात प्रचलित थी कि सूर्य पृथ्वी के चारों ओर घूमता है | गैलीलियो ने इस बात का खंडन किया और कहा कि पृथ्वी नहीं बल्कि सूर्य ब्रह्मांड का केंद्र है और पृथ्वी तथा अन्य ग्रह उसके चारों ओर घूमते हैं | यह बात बाइबिल के खिलाफ थी । अतः पादरी इसको कैसे सहन करते । गैलीलियो पर आरोप लगाया गया और कचहरी में अपनी बात वापस लेने को मजबूर किया गया | गैलीलियो तब बूढ़े हो चले थे और कमजोर भी । अतः मौत के डर से उन्होंने बुझे मन से अपनी बात को झूठी कहना स्वीकार कर लिया । उन्होंने पोप से माफी माँगी | लेकिन जब पोप के सामने से गैलीलियो हटे तो वह स्वयं बुदबुदा उठे --- अर्थ इज मूविंग नाऊ टू ... (पृथ्वी तो अब भी घूम रही है) । आखिर थे तो सत्य के ही अन्वेषक !




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now