रागरत्नाकर | Ragaratnakara

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Ragaratnakara by खेमराज श्रीकृष्णदास - Khemraj Shrikrashnadas

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about खेमराज श्रीकृष्णदास - Khemraj Shrikrashnadas

Add Infomation AboutKhemraj Shrikrashnadas

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
1 ह# ०. हक श्‌ हर धकओ अं रू बा लत 50 ट्री ह 1 ६ हा जी गजल जा की या का का 1 हक हर कक हा कह जि ८. बडपन आनथ« न यु मत का हक दे ना हु श्ड्ा ध्य ख्थशफा कि का... पक ०3 बह 1 950 ७४७४ पर मय (हुले ६. । $क है; कब अप ् धप (6 जछ, ( के ५ 5 के खाक पश्चात) (ि मल ॥ बे) 1 कं रत, [४ । स्ड है जी अत + पिन, एड1 छ (टोई | हि कक, ्िफरिमसनपणात न क स्प्म्म्च्च्व्मथ 2 4 किीसासाथ्थ पडा कि (2 हे (४७ च्कक 231 हक, कध्फे रुक. पथ छः, ि श्लाा बनाओ उन श है प्जाक 05 कण शक के आज. 41 दाग पमदाक्मीक । ज्य था | 8 हैक ७ हर जज + कु ॥! 1 3 18 जे | ७ शिड हा ड़ «४ कि का 1 गा &/$ चुका: त्ख च्छ््त बाज हर कक श्् का ज्कण्द्दूंब्लू, 168 | | रू पक रे टूग फ् ना न | कला फी पर शादा, झा ताज हु 1 ला ह नि के है हर ७ च्, नी हक ( 20, डि हल न | नन्टशा कटा दा ण्कुट्राए... कल नया टक कलर पक जा लक से... पर लक त्ग कि पर के नहालरी - शक इरकानाक हर कर 200... एपम्नट ३, पशु को हउधपद पा व्यू, जब दाक्नता छाएाएोए रूप डइ॑र आराएह आज पायल: जी अआुष्य हल # की कप 3 हे हैः च्े कि ह० .. न क्‍ श कै शी य ८, पए८ # 75 पज्ञ दया श आर फिर पाए सेना उाएलएा ७, फादा।ाएशलओ पह्यकक २ || ( | 1। “७, /. किक ४3 ॥ च्थ ३५ ० हर 5 की ५० > हक 1५ ०1० कर | | हक । गे पे 81 पा (कक ॥«०.. ४ थ क मा को हा दे तर कक ७८७ (2 6 हँस बन से ४ जद मा आज ते «5 झ्व अनपनन - पलक कलला कप 1धान्ओ ० 4 आम 5 द्राणएरों था आए ५ ित | दान ३ 25 का >> पा, ७ | 5 जि ह् छठ हे 1 री आज २०४३ न्कः ७ बेब 119 00705 1 4 2 हे पा हा कर 1 हे, * | ला ग 3, हर न सं हे के. कडडमट कला चने ना बट, 3 फ हू नो 7२5० आल अली शी ५' अलर्क नमन नजर राज क्र || ॥/ फटा /झ। रू ५५ छ- 2]1201 5, 1. आर ट ली का % 0०ई जि इज 5०४६३ 4 हु ५०००५ ५०५४३ घुगा। 6) ४४३६६, ४ हक 7 लब। डा रु #४ हल है रे ह 11०२, रत च ता वहा अगर दननात इजयण जन्टाण 2 छा मेन छह ४ 4७९५ », + जज आर, >0७ ऑल, शक 71 का ५) फ कि 2 7 कम जे ० 3५ श्ह्काः “ड़ पु * ही जा #पुल आकर पर हयए४%. प्रषाश्णरओ पर गहाण॥े 58 कुछाऊ 5 && 94% #... ६१.७५ 3७४४] हे हु हि श् की (हु।। (5० 2 0४ हे उरी -8 ४ नयी २३३४ *# 05 ० (आ ६४ | 90/७ छ हन्‍ कब ह््ड रत (2९ अ्रन्ञ न्वक््ट प्र क (मा चडाए) ७० अपट प्र _र्डल की पुल हा आता ग्पा | $ कद ॥ ४] 1 हे न लि 3 शा 215 जा डी ६॥ ५०५ ४, ४8४६. ७॥ ७ (५७५४ ४४ 1६ 1 ५! दर न हें ञ छत लडपलम छू नगर रे माफ ठप ४ 2 हि पिज्षशतओ हु राशी. हत्या *० हक टपृटमनम्नान डर तय जब अटपुपा जानता तट प्र प्ण्झु सबक ह्ध्ष दा ईट क् बा पेज अं न ५०३ ये 1 जा ऑट5क 5 १५,७७७ । ० जी ४४०५४/ हि 3३ “1751४ हे न म[[0.५४६७ ९४४ ५ रा 1 ” हे ” हु ट ध् ? 1] +, क्र ब्छ कि कल शा ( बूप; ्ः का. काल शक न, जि जल है“ ५1 कक 1 जल चटाला5क ० आुनातजटू न पृ है >केनेू, अययनकाओ जज ते | जुक दा शक हा यु हैः 5 गा ४1६ ५५ ५ ४ 4६४, ध्वं 1५६ “| जजण; ६४० 9 ए्‌ः 2 ३४३ 451३ कट कक 2 ॥ हा पता 2४, बज ०1 1०३४ २ 18 ऊ अआ् छ हा श् हर, हा, हा रा 27 (० हा पा: तो ननण अिा 5 11 आफ खादी पं हट वा ॥ क हा 5 ते, हा जल आरा दी पढ़ाओ आपए 07, 8 0७५४४ ६७8३ ४, ध्यव ७५४ ६ ०५ ४४५ 3५ ००२०६ ५४०४ एप २३% ध एण ते, + संधि अं ४ 5५ 43, 711 है 011६. 5९ ु गट ञ्फ 8५ ्क फ * बन तक ३ च् रू हा हा *प कर (/$ हलपहलन्‍क प० अमन्ण्न्‍दुक “अग०...थ है + सजी “ल्काक तमोजाना समाज मकप्ट टू क अधया॥ का हुए हे मयाक तक कजजभा.. नया न. >मन्‍मढ घ न '० ४-प न अर कतार, कहे आ चर) श हा च्टह हा हब हट कल | हत प्र < हि का शा | ४, ६ ५५०४-५६ था ४३५४५ हैं, ८५ १ | ८ &छ०/६ 3०८७५ 51५० १५ * 1: ४ 7 ५४ ५३ ४? श्र ५३ »1 | हर प्र थम +4/' हि ५ (15. दार छान्‍्टाल पप्जापएद्वदा' पा टच ह्पयिः का कि मा 4 पद था वात ाडा शर्म २ गण हू! ही] ४ ण ३ ० ह. हा | | 1॥ 5 + “० और ओ ७, | ५ 5 श ०! २ रा ब् ५ ४4,154 प्छ० 1] का प्‌ 4 1120 4.५ > ल्‍ थे ५ ् ऊ व लक कक है] ५ तक ऊँ चर हि च्क हम ३)1६ 120 «० न महक एलण हक फल दर लय उनोधिज पट 75 व ४5 हु ड छह 7 दर ः शक दा द्ठु ते ण८ का धर 7 5.) न्ल्ाक्ः ७8 8 ईदी, (०५ १५० & ४६५६ 1 ९ जहू, के यछ आस इक एबता[आाश। आऑजेत< जध्यु0॥ हद डे 4 ््ाहाए। # पष्याजार साई पा आपदा दल अनसार ते पता शा के र्यह न ही ४६७५६ ४३६ ४5, जग 51 ७ 0०२६ ६1४0 ४ ५५ ४६६९॥ बह 8६. एथाणएू( ४१७ 1- ०41 े प्‌ | सदा | ढ &1 प (१, वौॉमए बन्द ++ कड ऋण, (5. इक १० ० हि कु) ४ ॥+ किन ष्ू ! जि कनकष्ण हा लत अष्णू [झल का डी पान अन्दर गैर अहहए . ० | रे रे ५९) १ रा छा )०॥ [7 «5010 | व गवदरद हू जह शाखत ४४ छुए जआडाह्वा | कट पल का खा जारूल साएू४ के 95 भा श 6०७ 2५ ऋल् तह पश्त गा टेप मद -वद्छ ण्जा ५ ड्काणात प्रपरया दे पास हि चपुप ष्झ्ु जप ५. नकद चूक रे हो लक खा लगा शापवात्त ढंर वन एवक अधन[ | इंड् दि्ास हैं 1७ जह। आा कुछ भूव्यचूद डेज पृदाएस्‌ 75 ग न जा परमपत्रित्र उमझकर अवगय अ्रवण कीतन करगे | है! धचारखा होधू।-छ ली औए और क्षप्राकरों अपराध !| रिएइके, कद्स खकादा छुति बाबा ॥ ॥ 1 जि।दु लि जि ह्वः परम अखृतमय जो रहुस्य है वह वाणीसे परे जह जायगा- बज हि है इलाकिये अफक्तजनोंके निर्मेल हृदय ब्टान्-त 340 “2-4 “42230 स्टरी हक खेमराज श्रीकृष्णदासख “अरीवेहूदेशर स्डीम-यन्त्राल्याघीशको समर्पण है गगगरत्नाकर तथा भक्तचिन्तामाणे संग्रहकर्ता :-- आवका दास-मक्ताम, जआालंजरानिवाती: भा हा (पं पा अं (15७ जहा कह | 4 ४ कच्क है 1 जल के प्‌ कु # ड़ कल रस स्क, तट जद परत जि >> हि डे ष्ड् बाप ७८5०1 ९ ०-टव हा डर ड्व/ः *ट्ट श/ ््ड डी रश $ 1




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now