रैदास जी की बानी और जीवन चरित्र | Raidasji Ki Bani Aur Jivan Charitr

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : रैदास जी की बानी और जीवन चरित्र  - Raidasji Ki Bani Aur Jivan Charitr

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(८) सब घट उंतर रमसि निरंतर, में देखन नहिं जान! शुनसथ तार मार सब औगुन, छत उपकार न माना / ३ मत तारि मारि असम से, कैसे करिं' निस्तारा कह रैदास करन करुनामय, जे जे जगत अधारा ॥ ४ ॥ हरे बी राम चिन संसय गाँठि न छूटे । ः काम किराघ लेन मद माया, इन पंचन मिछि लूटै (टेक हम वड़ कन्ि कुलीन हम पंडित, हम जागी संन्यासी। ज्ञानी गुनी सूर हम दाता, याहु कहे मत्ति नासी ॥ ॥ पढ़े गुने कछु समुभि न परइ, जी ढाँ भाव न दुरसे । लोहा हिरन' हाइ थे कैसे, जाँ पारस नहिं परसे ॥ २॥ कह .रेदास और असमुभक्त सी, चालि परे भ्रूम,; मेरे, ।,- एक अधार नाम नरहारि के, जिवन सान धन मारे ॥.३ ! ॥४॥ जबराम नाम कहि गावैगा। तब मेद अमेद समावैगा ॥टेक॥ जे सुख हूँ या रस के परसे, से सुख का कहिं गाबेंगा॥ ९ ॥ गुरुपरसाद भें अनुसा मति, विप अस्ित सम घावैगा ॥२॥ कह रैदास मेटि आपा पर, तब वा टैरहि पावेगा ३ ॥ है कि गन | दि अग संततो अनिनं भगति यह नाहीं । - हर जब लग सिर जत मन पाँचेा गुन, व्या पत है या माहीं टेक साईं आन अंतर कर हरि सेँ, अपमारग के आने 1 काम क्रोध मद लाभ माह की, पल पल पूजा .ठाने ॥१0 सत्य सनेह इप्ट अँग लावे, असूथल असृथल खेले । « जा कछु मिलैं,आन आखत' से, सुत दारा सिर मेठी ॥२॥ * सोना । दिनन्य, , | प्र, केढ़ चावल । 5. कुछ चावल । ! '




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now