दादू दयाल की बानी (पद्य) [भाग 2] | Dadu Dayal Ki Bani (Padya) [Part 2]

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Dadu Dayal Ki Bani (Padya) [Part 2] by विभिन्न लेखक - Various Authors

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about विभिन्न लेखक - Various Authors

Add Infomation AboutVarious Authors

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सूचोपत्र शब्द मतवाले पंचें प्रेम पूरि मधि नेन निरखेँ सदा मन चंचल मेरा कह्यो न माने मन निंमंल तन निर्मल भाई बक पक»... पक मन पवना ले उनमन रहे मन बावरे हे झनत जिनि जाइ मन बेरागी राम कौ मन मतिहीन घरे सूरख सन मन माया रातों भूले मन मूरिखा तें क्या कीया मन मूरिखा तें यहीं जनम गँवायौ ... मन मेरे कु भी चेत गँवार मन मेला मनहींँ स्यूँ घाइ मन माहन मेरे मनहिं माहि मन मादन हे। मनसा मन सबद खुरति मनाँ जपि राम नाम कहिये मनाँ भजि राम नाम लीजे मन रे ्ंतिकाल दिन श्राया मन रे तूं देखे सा नाहीँ मन रे तेरा कान गँवारा मन रे देखत जनम गये मन रे बहुरि न एस हेई मन रे राम बिना तन छुजे मन रे राम रटत क्यूं रहिये कि... अपर हु मन रे सेचि निरंजन राई १ पट शुपद ८5 १४४ श्दे हु रे ७ धूः ४. ८ रद १० 9डे रद्द के २१७७ श्८पं. ९२७. ध्फ्




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now