शिव पुराण एक समीक्षात्मक अध्ययन | Shiv Puran Yak Samichatamak Adhayan

Book Image : शिव पुराण एक समीक्षात्मक अध्ययन - Shiv Puran Yak Samichatamak Adhayan

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

उमाकांत यादव - Umakant Yadav

No Information available about उमाकांत यादव - Umakant Yadav

Add Infomation AboutUmakant Yadav

राजेश कुमार - Rajesh Kumar

No Information available about राजेश कुमार - Rajesh Kumar

Add Infomation AboutRajesh Kumar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
कोष हैं । जिस प्रकार आज-कल विश्वकोष (इनसाइक्लोपीडिया) लिखने का प्रचलन है जिससे विस्तृत विज्ञान संक्षेप में शिक्षित जनता के ज्ञानवर्धन के लिए प्रस्तुत किया जाता हैं उसी प्रकार अग्नि नारद गरुड आदि पुराणों की रचना ज्ञान-विज्ञान को लोकप्रिय बनाने की दृष्टि से को गयी है। पुराण जनता का ग्रन्थ है विद्वानों का नहीं व्यावहारिक सरल भाषा में रचित ग्रन्थ है शास्त्रीय भाषा में नहीं । उसका उद्देश्य ही है ज्ञान को सुगम बनाना । आज-कल के पापुलर-एजुकेशन की दृष्टि से इस विषय में पौराणिक दृष्टि का अनुगमन करती है ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now