ऋग्वेद के द्वितीय मण्डल का आलोचनात्मक अध्ययन | Rigved Ke Dwitiiya Mandal Ka Alochnaatmak Addhyayan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Rigved Ke Dwitiiya Mandal Ka Alochnaatmak Addhyayan by जया दुबे - Jaya Dubay
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :16.43 MB
कुल पृष्ठ :175
श्रेणी :


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

जया दुबे - Jaya Dubay

जया दुबे - Jaya Dubay के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
जअष्टक _क्रम - मण्डल क्रम शाखाभेद के कारण ऋग्वेद के विभाग उपलब्ध होते हे अप्टक क्रम और मण्डल क्रम अप्टक क्रम मे -अष्टक अध्याय वर्ग मन्त्र (ऋचा) रूप मे ऋग्वेद का विभाजन किया गया है जवकि मण्डल-क्रम मे मण्डल अनुवाक सूक्त मन्त्र (ऋचा) के रूप मे विभाजन है। अप्टक - क्रम सेल सी किम कक योग ६ ट््छ २०२४ १०५५२ (१). इनमे बालखिल्य के १६ वर्ग सम्मिलित है। खिल का अर्थ होता हे शेष (बचा हुआ)




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :