एकांत संगीत | Ekant Sangeet

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Ekant Sangeet by बच्चन - Bachchan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

हरिवंश राय बच्चन - Harivansh Rai Bachchan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
एकांत संगीत द्‌ व्यर्थ गया क्या जीवन मेंरा ? प्यासी. आँखें भूखी. बहिं अंग-अंग (की | अगणित चाहें और काल के गाल समाता जाता हे प्रति क्षण तन मेरा व्यर्थ गया क्या जीवन सेंरा ? आशाओं का बाग गा हैं कलि -कुसुमों का भाग जगा हैं पीलें पत्तों -सा मुर्भाया जाता है प्रति पल मन मेरा व्यथं॑ गया क्या जीवन मेरा ?. क्या न किसी के सन को शाया दिल न किसी का बहला पाया ? क्या मेरे उर के अंदर ही गूँज मिटा उर-क्ंदन मेरा ? व्यथें गया क्या जीवन मेरा ? श्ट




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :