ज्ञान सरोवर भाग २ | Gyan Sarovar Bhag 2

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Gyan Sarovar Bhag 2 by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
काम गुरू हुआ। खेंडहरों की खुदाई का अधिक काम नील और फिरात नदियों की घाटियों में कुछ काम हमारे मोहजोदडो में मिले जेवर दें। और पाकिस्तान ,में भी हुआ है। सिंध नदी की घाटी मे एक टीलें को खोदने से एक बहुत ही प्राचीन नगर के खँडहर मिलें है जिसे 'मोहजोद डो' कहते है । मोहंजोदडो की खुदाई में मिले जेवर, मिट्टी के वतन और भोहजोदडो की एक गली, लिसमें सफाई के लिए दो दूसरे सामान को देखकर विद्वानों ने यह नालियाँ है। नालिपो से पत्ता चलता हूँ कि नगर में स अनुमान किया हूँ कि वह नगर इंसा से कम से कम २५०० वरस पहले रहा होगा । पृथ्वी के गर्भ में मिलें उस नगर की सडको, तालावों और इमारतों को देखने से मालूम होता हू कि वह नगर कुछ बातों में आज- कल के नगरों के समान रहा होगा । मकान एक तसतीव से वनतें थ्रे श्रौर सफाइ का नियमित रूप से प्रबथ था ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now