गाँधी वध की परीक्षा | Gandhi Vadh Ki Pariksha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Gandhi Vadh Ki Pariksha by यशपाल - Yashpal
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 5.97 MB
कुल पृष्ठ : 172
श्रेणी :
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

यशपाल - Yashpal

यशपाल - Yashpal के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
गांधीवाद गांधीवाद नाम की कोई वस्तु है ही नहीं न में अपने पीछे कोई सम्प्रदाय छोड जाना चाहता हैँ। मेरा यह दावा भी नहीं कि मैंने किसी नये तत्त्व या सिद्धान्त का झाविष्कार किया है । मैंने तो सिफ॑ जो शाश्वत सत्य हैं उनको झपने नित्य के जीवन श्रौर प्रतिदिन के प्रश्नों पर श्पने ढंग से उतारने का प्रयासमात्र किया है । सुझे दुनियां को कोडे ने चीज़ नहीं सिखानी है । सत्य और घ्रट्टिंसा झनादि काल से चले श्राये हैं इसी सत्य घर झ्रहिसा को चरितार्थ करना मद्दात्मा गांधी श्र उनके भअनुयाइयों की सस्थाओं का आदर्श और उद्देश्य है । इस विषय सें महात्मा गांधी आगे कहते हैं -- ऊपर जो कुछ मैंने कहा है उसमें मेरा सारा तत्व ज्ञान--यदि मेरे विचारों को इतना बढा नाम दिया जा सकता है तो--समा जाता है। श्राप उसे गांधीवाद न कहिये क्योंकि उससें वाद जैसी कोई बात नहीं है । + महद्दात्मा गांधी के शब्दों से ही यदि गांधीवाद को समकना हो तो सत्य श्रौर हिंसा की साधना ही मनुप्य का उद्देश्य है । गांधीवाद का मत है व्यक्तिगत रूप से सत्य और अर्दिसा की साधना से मनुष्य घ्याध्यात्मिक उन्नति कर व्यक्तिगत पूर्णता प्राप्त करता है और सामूद्िक अपने कार्य-क्रम के सम्बन्ध में मद्दात्मा गाधी के विचार हरिजन बच २६-३-१६३६ ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :