Vivek Jyoti by स्वामी अपूर्वानन्द - स्वामी अपूर्वानन्द - Swami Apoorvanand
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 3.63 MB
कुल पृष्ठ : 130
श्रेणी : , , , , ,
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

स्वामी अपूर्वानन्द - स्वामी अपूर्वानन्द - Swami Apoorvanand

स्वामी अपूर्वानन्द - स्वामी अपूर्वानन्द - Swami Apoorvanand के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
श्री माँ सारदा देवी के सस्मरण १ से खाने-पहिनने-रहने की समस्या तो रही ही नहीं बल्कि अध्यात्म-राज्य में प्रवेश के लिए भी उसमे प्रबल आग्रह बौर साधन-भजन की निप्ठा दिखायी देने लगी । कालान्तर में क्रम से ब्रह्मचयें और सच्यास ग्रहण कर उसका जोवन साथक हुआ । माँ के एक और भक्त-सन्तान कुलगुरु से दीक्षा लेकर दीघंकाल से साधन-भजन मे रत थे फिर भी शान्ति नहीं पा रहे थे । श्री ठाकुर के प्रति उनकी अगाध भक्ति ओर विश्वास था । ठाकुर के शिष्यों विगेषकर श्री हम के साथ उनका विशेष परिचय था एवं श्री म भी उनसे विशेष स्नेह करते थे । अनेक घात-प्रतिघातो ने उनका जीवन अस्तव्यस्त कर दिया था । अन्त में निरुपाय हो कष्ट उठाते हुए वे जयराम- वाटी गये और माँ के चरणों मे शरणापन्‍्न हुए । जब माँ को पता चला कि उनकी दीक्षा हो चकी हे तो वे पहले तो उन्हें दीक्षा देने के लिए राजी नहीं हुई । पर वाद में उनके आग्रह और असहाय अवस्था को वात जान माँ ने कृपापूर्वेक पुनः दीक्षा दी । माँ के दर्शन कृपा और स्नेह पाकर उनका हृदय भानन्द से भर उठा | जयरामवाटी और कामारपुकुर में श्री ठाकुर के समय के लोगो से मिलकर और उनकी लीलाभो से जुड़े स्थलों के दर्शन कर वे विशेष पुलकित हुए । उनके जीवन में स्पष्ट परिवर्तन दिखलायी पडा--पहले वे कोई छोर न पा रहे थे पर अब उन्हे




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :