आर्ष-ग्रंथवलि बृहदारण्यक उपनिषद् | Aarsh Granthawali Brihadaranyaka Upanishad

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Aarsh Granthawali Brihadaranyaka Upanishad by पं. राजाराम - Pt. Rajaram
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 9.11 MB
कुल पृष्ठ : 334
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

पं. राजाराम - Pt. Rajaram

पं. राजाराम - Pt. Rajaram के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
बददारण्यक-उपनिषद्‌ 9 ( गर्जना ) हो इसकी वाणी ( हिनाहिना ) है भला १ ॥ ष्यि-इस में अच्वमेथ के घोड़े के विपय में जो रहस्य हैं उस का वर्णन है । यद सारा जगद समाहिरूप में विराट हें यद विराट एक पुरुष है भिन्न २ देवता उस के भिन्न २ अग दें जैसे सूर्य नेत्र दे और वायु माण हें इत्यादि ( देखों कऋगू० १०1९० और अथवे १०1७ा३२-३४)। इसी विराट से हमारा जीवन बना है और इसी के अगों से इमारे अग चने दें। जो कुछ इस बड़े न्नह्माण्ड में है बही हमारे इस छोटे दारीर में दे जो न्नह्मण्डे सोइ (पे ण्डे (देखो ऐतरेयारण्यक २1४।५-२५२। ३1३५) इमारे अन्दर की दाक्तियां इन वादरकी दाक्तियों के साथ ओत मोत हो रह हैं । यादि यह वाइरका जगव्‌ छुद्ध पवित्र वछिप्र और दृदिप्ठ दै तो हमारी अध्यात्म बाक्ियों पर उतर का बैता दी मरसाव पड़ता हैं । इदी मकार यदि हमसारी अध्यात्म शक्ति पां शुद्ध पत्रिच वलिप् और रदिष्ठ हैं तो वे इस बाइर के जगद्‌ को वैसा दी बना देने का सामथ्य रखती दैं। यज्ञ का नियम इसी सम्बन्ध के आधार पर है । चाइरी जगव. में जो स्व- भावतः यज्ञ दो रहे हैं उन्दीं का अलुकरण यद हमारे यज्ञ हैं । न्नाझण ग्रन्थों में जो यज्ञों को वर्णन है उस से स्पष्ठ मदीत होता है कि यज्ञ नया नहीं उत्पस किया जाता किन्तु चद्द पहले दी के जो लोग यहां यश के सस्वन्घ फो उड़ाकर परमात्मा को थोड़े था रूप चना डालते हैं चचच यक्क की मदिमा को तो जानते दो नद्दीं पर घोड़ा बनाने में परमात्मा फी महिसा को सी घटाते हैं. । झा यद्द क्‍या महिमा इुई कि मेंद चरसना परमात्मा रूपी घोड़े का सुतना हैं और बाद ठका गजेना परमात्मा रूपी घोड़े का दिनहिना डे । छोटे यश आर इस स्वाभावक चड़ यश मं सुद्यता दिखलाना तो महिमा की वात दे पर परसात्मा ब्हो घोड़ा चनाना कोई सहिमा थी वात नरदीं । घत्युत महिमा को घटाना दे ॥




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :