सत्य संगीत | Satya Sangeet

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Satya Sangeet by दरबारीलाल - Darbarilal
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 2.13 MB
कुल पृष्ठ : 142
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

दरबारीलाल - Darbarilal

दरबारीलाल - Darbarilal के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
कान ३ कक नशा बोलना कौन तू तेरा कौन निशान । किमाकार कया सीमा तेरी क्या तेग सामान ॥ कौन तू तेरा कौन निशान | अगम अगेचर महिमा तेरी कौन सके पहिचान । कणकणमे इबे तीथंकर ऋषि सुनि महिमावान || कौन तू तेग कौन निशान ॥ तेणा कण पाकर बनत हैं. जन सब्रज्ञ महान | पर क्या हो सकता है तेरी सीमाओं का ज्ञान ॥| कौन तू तेप कौन निणान ॥ नित्य निल्तर सूकष्म-अ्रवाही तेगा अदूभुत गान। होता रहता पर सुन पाते हैं किस किसके कान ॥| कोन तू तेश कौन निशान | दुनिया राती मैं भी रेता जब वनकर नादान । कितने हैं वे देख सके जो तब तेगी मुस़कान ॥ कौन तू तेग़ कौन निशान ॥ तू है वहीं चूर करता जो मेरे सब अभिमान । रोते समय ऑसुओकी धाराका करता पान. ॥ कौन दू ते कौन निशान ॥| इतना ही समझा हू स्वामी तेरा अकथ पुरान 1 इतने में ही पूर्ण हुए हैं मेरे सब अरमान... ॥ कौन त तेरा कौन निगान |




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :