हिन्दी भाषा और साहित्य | Hindi Bhasha Aur Sahitya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Hindi Bhasha Aur Sahitya by श्यामसुंदर दास - Shyam Sundar Das
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 20.74 MB
कुल पृष्ठ : 446
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्यामसुंदर दास - Shyam Sundar Das

श्यामसुंदर दास - Shyam Sundar Das के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(७ ) रस-संप्रदाय झलंकार-संप्रदाय रीति-संप्रदाय वक्रोक्ति-संप्रदाय ध्वनि- . सैम्रदाय दिंदी में रोति केशवदास न्रिपाठी-बंधु . मतिराम बिहारी देव मिखारीदास पद्माकर प्रतापसादि घनानंद बोधा ठाकुर फुटकर कविगण । . ग्यारदवाँ झध्याय आधुनिक काल पथ एष्ठ ३०५७--३०३ ३ रीति-घारा का झंत भारतेंदु हरिश्चंद्र दरिश्च॑ंद्र के समकालीन व्यक्ति पाठकजी और द्विवेदी जी उपाध्यायजी श्ौर नाथूरामजी मैथिली- शरणजी शुप्त सनेद्दीजी घार दीनजी शुकजी न्रिपाठीजी श्रजभाषा के आधुनिक कवि अन्य कविगण छायावाद छायावाद के कवि दिंदी कविता का भविष्य समस्यापूर्ति । बारइवाँ अध्याय आधुनिक काल गद्य शृष्ठ ३७४--२९२ 3 गद्य का विकास गद्य के क्षेत्र में भारतेंदु घार उनके समकालीन नागरी-प्रचारिणी सभा और सरस्वती समालोचना नाटक उपन्यास झाख्यायिका निबंध गय शैली का विकास उपसंहार ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :