बाल पुराण | Bal Puran

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Bal  Puran by रामजीलाल शर्मा - Ramjilal Sharma
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 2.61 MB
कुल पृष्ठ : 144
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रामजीलाल शर्मा - Ramjilal Sharma

रामजीलाल शर्मा - Ramjilal Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
ब्ह्मपुराण | रद इ७--बारद्द यात्राओं के फल का वर्णन । ईप--निष्णुलाक का वर्णन । धंट-एपुरुषोत्म-माद्दात्म्य । ७०--चौाबीस तीर्थों के लचाण और गैतसी-माहात्म्य । ऊ--र्गंगा के जन्म की कथा तारकासुर का वर्णन शार कामदेव का भस्म दाना । ७र--हिमवान्‌ पवेत का वर्णन सहादेव का विवाह गौरी के रूप का दशैन करके श्रह्मा की दुदेशा शार उनके न्रह्मचर्य का खण्डन उससे बालखिल्य गण की उत्पत्ति और शिव के पास से न्ञ्मा को कमण्डललु का सिलला । ७द३--बलि और वामन भगवान्‌ की कथा झर गड्ड का शिव की जटा सें समा जाना । अष्--गज्ञा के दो रूपों की कथा गौतम को गेाहत्या का पाप शौर उस पाप से छुटकारा पाना और गौतम का कैलाशगमस । ऊ५--गौतम का किया छुआ उमा-महेश्वरस्तव गौतम की गज्गा-प्राथना । ७ई--पन्द्रेह रूप होकर गड्डा का चलना गोदावरी के स्ान की विधि । ऊऊ--गौतमी की भ्रशंसा । ७प८--उघबसिध के पुत्र दोने को कथा राजा सगर का अश्वमेघ यज्ञ करना कपिल मुनि के शाप से सगर के पुज्नों का नाश




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :