आत्मतत्त्व-प्रकाश | Atma Tattva Prakash

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Atma Tattva Prakash by डॉ. सतीशचन्द्र विद्याभूषण - Dr Satishchandra Vidyabhushan
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 3.41 MB
कुल पृष्ठ : 114
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

डॉ. सतीशचन्द्र विद्याभूषण - Dr Satishchandra Vidyabhushan

डॉ. सतीशचन्द्र विद्याभूषण - Dr Satishchandra Vidyabhushan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(१४) चडें दुःख ९ साथ लिखते हैं कि इस संस्क- रणसें उपर लिखी किसी आज्ञाका भी पालन दम न कार सके । जीवात्सा के विषय में न्पाय- ास््रका जो मत है उसी दो व्याख्या इस पुरतक में की हैं अन्य कोइ दिपय नहीं छुआ गया | सारतवर्प के द्शनशास्त्रों का इतिद्ास स्वतन्त्ररूप में लिखने की इच्छा है इसलिए इस पुस्तकें प्रकाशित इतिहास से कोई चूद्धि नहीं घ्यीगटे । सात आठ चपे पहले हमारी घारणा थी कि प्राचीन ग्रन्थों में से कोई नई वात निकालना ही पर्याप्त होता है उन ग्रन्थों का नाल और उनके वचन इमारे लिए ( उस समय ) चिद्ोष आद्रकी वस्तु नहीं थे । किन्दु अच माठूम हुआ कि विना प्रसाण के पाय्यात्य पण्डित किसी तत्व की पवोह् -नहीं करते । अघ किसी दतन तत्व के उद्धार करने वी बजाय उसे तत्त्व के प्रसापक ग्रन्थों ही की ओर हमारा ध्यान आकर्षित हुआ है । सात जाठं वष पहले हमारे विचार क्या थे इस बात को लिपिवर रखने के अभिप्राय से-वत्तसान




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :