आत्मतत्त्व-प्रकाश | Atma Tattva Prakash

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Atma Tattva Prakash by डॉ. सतीशचन्द्र विद्याभूषण - Dr Satishchandra Vidyabhushan
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
3.41 MB
कुल पृष्ठ :
114
श्रेणी :

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

डॉ. सतीशचन्द्र विद्याभूषण - Dr Satishchandra Vidyabhushan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(१४) चडें दुःख ९ साथ लिखते हैं कि इस संस्क- रणसें उपर लिखी किसी आज्ञाका भी पालन दम न कार सके । जीवात्सा के विषय में न्पाय- ास््रका जो मत है उसी दो व्याख्या इस पुरतक में की हैं अन्य कोइ दिपय नहीं छुआ गया | सारतवर्प के द्शनशास्त्रों का इतिद्ास स्वतन्त्ररूप में लिखने की इच्छा है इसलिए इस पुस्तकें प्रकाशित इतिहास से कोई चूद्धि नहीं घ्यीगटे । सात आठ चपे पहले हमारी घारणा थी कि प्राचीन ग्रन्थों में से कोई नई वात निकालना ही पर्याप्त होता है उन ग्रन्थों का नाल और उनके वचन इमारे लिए ( उस समय ) चिद्ोष आद्रकी वस्तु नहीं थे । किन्दु अच माठूम हुआ कि विना प्रसाण के पाय्यात्य पण्डित किसी तत्व की पवोह् -नहीं करते । अघ किसी दतन तत्व के उद्धार करने वी बजाय उसे तत्त्व के प्रसापक ग्रन्थों ही की ओर हमारा ध्यान आकर्षित हुआ है । सात जाठं वष पहले हमारे विचार क्या थे इस बात को लिपिवर रखने के अभिप्राय से-वत्तसान




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :