काव्याकलन | Kavyakalan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Kavyakalan by श्री गंगाप्रसाद पाण्डेय - Shri Gangaprasad Pandey
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 2.48 MB
कुल पृष्ठ : 162
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्री गंगाप्रसाद पाण्डेय - Shri Gangaprasad Pandey

श्री गंगाप्रसाद पाण्डेय - Shri Gangaprasad Pandey के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
कंवौर स्वयं श्रनुसरण करके इन कवियों ने अपने उपदेशों श्रौर वचनों की प्रेभावोत्पादकत्ता इतनी बढ़ा दी कि उस समय का बढ़ा-वढ़ा सामा- जिक दंभ फीका पड़ गया | कबीर की उपासना निराकारोपासना थी | उनके काव्य में उपात्य के प्रति जो शब्द-संकेत मिलते हैं वें स्वभावतं रहस्यात्मक हैं । उपासना का श्राधार व्यक्त होने से उसके प्रति कहे शब्द भी सदज स्पष्ट दोते हैं किन्तु जब श्रव्यक्त की उपासना होती है तब रूप- कमय रहस्यात्मक शैली का श्राश्रय लेना श्रावश्यक हो जाता है | काव्य में रहस्यवाद की उद्भावना का यही मूल कारर है। कवीर हिन्दी के संवंप्रथम रहस्यवादी कविं हैं | वे वहुशुत थे । उन्होंने बहुत दूर- दूर तक देशाटन किया हृटयोगियों तथा सूफी मुखलमान फकौरों का सत्संग कियां कवीर ने ब्रह्म को जो हिन्दू-विचार-पद्धति में शान-मार्ग का निरूपण था सूफ़ियों के ्नुसार उपासना का ही नहीं प्रेम.का भी विषय बताया श्रौर उसकी प्राप्ति के लिये हृठयोगियों की साधना भी स्वीकार की | उनकी युक्तियों में कलावाजी उतनी नहीं जितनी तथ्य-निरुपणु की प्रेरणा । उनकी भाएा खिचड़ी है क्योंकि वे पढ़े-लिखे नहीं थे इसी से उनपर सभी तरह के बाहरी प्रभाव पड़े श्र उन सब का सुन्दर समन्वय उन्होंने श्रपने काव्य में किया और कहा भी है- सो शानी जो श्राप विचारें । निगण संत कवियों में कबीर प्रतिभा प्रचार और कवित्व की दृष्टि से सर्वश्रेष्ठ है । उनकी वाणी का संग्रह वीजक के नाम से विख्यात हैं | इसके तीन भाग किये गये हू-रमैनी ठबद श्ौर साखी । इनकी कविता में मानव मात्र को स्पा करनेवाली मानव मात्र से रहानुमूंठि रखने- वाली और सामाजिक संकौ्ण॑ता के प्रभाव से परे उदार भावनाओं का




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :