नये पत्ते | Naye Patte

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Naye Patte by श्री गंगाप्रसाद पाण्डेय - Shri Gangaprasad Pandey

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री गंगाप्रसाद पाण्डेय - Shri Gangaprasad Pandey

Add Infomation AboutShri Gangaprasad Pandey

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
थोड़ों के पेटे में बहुतों को आना पड़ा घूह्ो और गुफाओ आर पत्थरों के घरों से आजकल के शहरों तक दुनियाँ ने चोली बदली । बिजली और तार और माप श्र वायुयान उसके. वाहन. हुए। जान खीँची खानों से कल अर कारखानों से । रामराज के पहले के दिन श्राये । बायिज के राज ने लछ़मी को हर लिया । टापू में ले चलकर रखा और कैद किया | एक का डका. बजा बहुतों की आँख कपी |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now