२५२ वैष्णव की वार्ता | 252 Vaishnav Ki Varta

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : २५२ वैष्णव की वार्ता  - 252 Vaishnav Ki Varta

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रामदासजी - Ramdasji

Add Infomation AboutRamdasji

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
| अरु गावत हते तब गोविन्द- | । स्वामी घमार गावत हते सो घमार | | रायछाछ़ा ये घमार पूरी करे बिना गोविंदस्वामी चुप | | कर रह जब श्रीगुसाइजान आज्ञा करो गाविददास | | घमार पूरी करो तब गोविदस्वामीन कहीं महाराज | | घमारतों भाज गई वेतो घरमं जाय घुसे खेठतो | | बंद मयो अब कहा गावूं ये सुनके श्रीयुसांईजी चुप | | कर रहे पाछे बठकम पघारे जब एक तुक आपने | बनायके गोविंद स्वामीके नामक वा घमारमं घरी । वादिनसू गाविंदरवार्मीकी घमार ठोकमें साटे वारह | | कही जाय सो गोविंदस्वामी ऐसे क़पापात्र हते जो | | लीछाके देन करिके गान करते हते॥प्रसंग॥ १ ०॥ | सो वे गोविंदस्वामी महाबुनके टेकरापर नित्य | | गान करते दत । श्रीनाथजी नित्य सुनिवेकुं पघा- | | रत हते आर श्रीनाथजीसड़ गानहूं करते इते आर | | वे गोविदस्वामी भगवछ्लीठामं अष्ट सखानमें हते | | सो काइ सम श्रीनाथजी चूकते सो गोविंदस्वामी | भर काटते और गोपिंदस्वामी चूकते जब श्रीना-




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now