Yahi Sach Hai by मधुकर - Madhukar

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

मधुकर - Madhukar के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
यही सच है ए] १३वाज़ हैं। अननी, यह डिप्टी साहव का ही बेटा है ? मेरे सिर पर हाथ रखकर कहो तो*** डी होपफ''फ्फू ''फी'* ही ही” ।दोपाटलिपुत्र”* अजीमावाद “पटना । हजारों वर्षों से यहाँ राज- मागें हैं, जन-मार्ग हैं, गलियां हैं ।छोटे-छोटे मुहल्ले की गलियाँ जन-माग से मिलती हैँ, जन- मार्ग की अध-विकसित सड़कें राज-मार्ग से मिलती हैं । जेसे सड़कों का यह सिलसिला भारतीय समाज का प्रतीक हो ।जो गली मेरे मुहल्ले में आती है, वह पत्थरों की ईटों से बनी है। यह गली चार फीट चौड़ी है। पत्थर की ईटे सिर उठाने लगी हूं। नुवकड़ पर डॉक्टर संजय का घर है । फिर मेरा घर है, और घर हैं भीर-भर धर हैं।इस गली में ठोकरें लगती हैं। पेरों में ठोकर लगती है; अनगढ़ पत्थर हैं। नाक में ठोकर लगती है; दोनों ओर की नाजियों में दुर्गन्घ वहती है। मन में ठोकर लगती है, चलने-फिरने वाढे फिकरे, वोल, सीटियों, धवके और गालियों के उस्ताद हूँ ।वीस वर्ष पहले यह मुहुल्ला वसा । तीन-चार घर चाठुओं के चसे, फिर घासी-कहारों ने जनसंख्या बढ़ाई । पता नहीं हक वहाँ दया सोचकर बनाया गया ?




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :