एक धर्मयुद्ध | Ek Dharmyuddh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : एक धर्मयुद्ध - Ek Dharmyuddh

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

काशिनाथ त्रिवेदी - Kashinath Trivedi

No Information available about काशिनाथ त्रिवेदी - Kashinath Trivedi

Add Infomation AboutKashinath Trivedi

महादेव हरिभाई देसाई - Mahadev Haribhai Desai

No Information available about महादेव हरिभाई देसाई - Mahadev Haribhai Desai

Add Infomation AboutMahadev Haribhai Desai

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१, मजदूरों के घर-घर जाकर उनकी समूंची द्ालत के बारे में पूछताछ करने, उनकी. रहन-सहन में कोई कभी हो तो उसे सुधारने, संकट में उन्हें सहायता और सलाह देने, तथा उनके सुख-दुः्ख में भरसक हाथ बैँटाने की कोदिश करना । ” २. लड़ाई के दरम्यान अपने रुख और रवेंये के बारे में मजदूरों को कुछ सलाह-सूचना श्राप्त करनी हो, तो उसका ऐसा प्रबन्ध करना जिससे वह उन्हें तुरत श्राप्त हो सके । ३. रोज़ एक नियत स्थान पर मजदूरों की आम-सभा करके उनको लड़ाई के सिद्धान्त और उसका रददस्य समझाना । ४. सज़दूरों के लिए रोज़ * सुबोध पत्रिकायें * निकालना, ताकि लड़ाई के ये सिद्धान्त और इनका रददस्य उनके दिल में सदा के लिए अंकित हो जाय; उन्हें सरठ और उच्च कोटि का साहित्य हमेशा मिलता रहे; उनके मन और बुद्धि की उन्नति हो, शर उन्नति के इन साधनों को वे अपने बालक्चों के लिए बपौती में छोड़ सकें । ' (१) इस निर्णय के अनुसार जबतक लड़ाई चंलती रही, सवैश्नी दोकरलाल बेंकर, अनसूयाबहन और छगनलाल गाँधी रोक सुबह-दाम मज़दूरों के घर-घर घूमते; उनकी बस्तियों में जाकर उनके आर उनके घरवालों के नाम-ठाम लिखत, उनके पारिवारिक आय-व्यय के आँकड़े जानते, और इस प्रकार भविष्य में उनकी हालत को ' सुधारने के लिए आवश्यक जानकारी श्राप्त करते; मजदूरों में जो लोग लड़ाई से ऊब रहे थे, या भूख की पीड़ा से भयभीत हो रहे थे, उनको समझाते और हिम्मत दिलाते; मरीज़ों के लिए दवादारू का बंदोबस्त करते, और जो रोज़ी था मजदूरी . स्‍ाइते थे, उनके लिए वेसे साधन जुटाने की कोशिदा करते थे ) थु




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now