कुणाल | Kunal

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : कुणाल - Kunal

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रामचंद्र शुक्ल - Ramchandra Shukla

Add Infomation AboutRamchandra Shukla

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
कुणाल ०2१०, 2 पहला झड्झू पहला दृश्य स्थान--पाटलिपुन्न में श्रशोाकाराम चिद्दार समय--सार्यकाल के पूर्व [ कुछ मिक्लुओं का वार्वालाप ] पहला मिज्लु-इसकी ईंष्या की कुछ सीमा नहीं, दप का कुछ अन्त नहीं । शेफ है इस महारानी पर !. यह मौयकुल के यश की उज्ज्वल चादर पर कलक्क लगायेगी । दूसरा मिक्ठु--क्यों ्यानन्दगुप्त ! कुछ और नह घटना हुई कया ? भानन्दगुप्त--सा ता प्रतिदिन होती रहती है। झाज सम्राट ने वोधि- बृत्त के लिए मूल्य उपदार भेजा ।. तत्काल तिष्यरक्िता के नेत्र तप्त शाखित से रक्त हो गये । उसके सुख से झस्वीकृति की झलक अकट की । परन्तु सम्राट से वह कुछ कह न सकी । दूसरा मिछु--इस महारानी का चरित्र सहारानी पद के अतिक्ूल है। वोधिवृक्ष से ईप्या ! दोधिवृत्त से दप ! वह वोधि-




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now