जैनागम दिग्दर्शन | Jainagam Digdarshan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Jainagam Digdarshan by मुनि नगराज - Muni Nagraj

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मुनि नगराज - Muni Nagraj

Add Infomation AboutMuni Nagraj

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(2) सुयगडंग, सुन्रकृतांग के नाम 49, सुत्रकृतांग का १3) १4) 5) व्‌ है गा जन्ज्न् भ््ज्् बॉ १10) नु11 न12 ) भा स्वरूप : कलेवर 49, विभिन्न वादों का उल्लेख 50, दर्दन श्र श्राचार 51, वबौद्धभिक्षु 53 वेदवादी ब्राह्मण 54, श्रात्माद्॑ तवादी 55, हस्ति तापस 55, व्याख्या साहित्य 56, ठाणांग 56, दर्दन-पक्ष 57, व्याख्या-साहित्य 59, समवायांग 60, वर्णन-क्रम 61, विवाह-पण्णत्ति 61, वर्णन-शैली 62, जैन घर्म का विश्वकोश 63, अन्य ग्रन्थों का सुचन 63, ऐति- हासिक सामग्रो 63, ददशन-पक्ष 64, णायाघम्मकहाश्रो नाम की व्याख्या 65, श्रागम का स्वरूप : कलेवर 66, उवासगदसाश्रों नाम : झ्रथे 67, झचारांग का पूरक 67, अंतगडदसाझओ नाम : व्याख्या 69, अचुत्तरोववाइयदसाशओओ नाम : व्याख्या 70, वर्त- मान रूप : अपरिपूर्ण, यथावत्‌ 71, पण्हवागरणाईइं नाम के प्रतिरूप 71, वर्तमान रूप 71, वर्तेमान स्वरूप : समीक्षा 72, विवागसुय 73, दिट्विवाय, स्थानांग में हृष्टिवाद के पर्याय 75. इष्टिवाद के मेद : उहापोह 76, मेद-प्रमेदों के रूप में विस्तार 76, अनुयोग का तात्पर्य 76, द्वादश उपाग -- 78-110 उपांग 78, झंग : उपांग : शसाहरश्य 78, वेदों के (2)




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now