वेदी का फूल | Vedi Ka Phool

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Vedi Ka Phool by निर्गुण - Nirgun
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
2 MB
कुल पृष्ठ :
108
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

निर्गुण - Nirgun के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
श्रद्धा के दो फूल १७दिन-रात, सुख-दुग्ख नहीं देखती और सदैव अपने लक््य की ओर जागरूक रहती है। प्रताप की महत्ता एक निश्चित उद्देश्य के लिए अपना जीवन अप कर देने में है । उनकी महत्ता उस दृढ़ निश्चय में है जो केवल अपना काम करना चाहता है, सफलता-अ्रसफलता का अज्ञगणित नहीं जानता । ': आज जब हमारे सामने सेवा का महान्‌ राज-मार्ग फैला हुआ है और जब समाज की त्रस्त एवं बन्धनों में जकड़ी शक्तियाँ हमारी मनुष्यता से साहस की भीख माँगती हैं; जब हमारे चारों ओर एक किशेंखल समाज, जिसकी शक्तियाँ महान हैं, जिसका अतीत अन्धकार में चमकता है, फेला हुआ हमारे सेवा-भाव को, हमारे साहस को, हमारे आत्मो- त्सर्ग को चुनौती देता है, तव उस महावीर से हम कुछ सीखना चाहते हैं। हम उनसे उनका वह तीकण भाला यहर करना नहीं चाहते जो कभी शत्रु-सेनापति की अम्वारी से टकराता था तो कभी किसी आकमसकारी के . कलेजे में घुसकर अपनी प्यास बुख्ाता था । हम तो आज उनकी 'उत्त लगन, उस पागलपन, उस हढ़ता को अहण करना चाहते हैं जो आदि से अन्त तक उनके जीवन में ओतप्रोत है और जो हमारे सामने आत्योत्तर्ग का वह आदर्श रखता है जिसके थिना कोई सेवा, कोई सुधार, कोई महान्‌ कार्य सम्भव नहीं है। ओर आज जब समाज की, देश की, संसार की अवस्था




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :