संचारिणी | Sacharini

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sacharini by शांति प्रिय द्विवेदी - Shanti Priya Dwiwedi
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
9 MB
कुल पृष्ठ :
272
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

शांति प्रिय द्विवेदी - Shanti Priya Dwiwedi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
हर भक्ति-काल की अन्तचतनाहै। लौकिक जीवन के हमने आध्यात्मिक संस्कृति द्वारा लोकोत्तर बनाया है। पश्चिमीय सभ्यता लौकिक है, अतएव वह कला के, जीवन के, ऊपरी ढाँचे ( झाकार ) के ही देखती है, चहाँ इसी अथ में कला कला के लिए” है। किन्वु हम स॒न्दर्मू के स्थूल ढाँचे में सूक्ष्म चेतना के देखते हैं, इसी लिए सुन्द्रम से पहिले सत्यमू-शिवमू कह कर मानो साष्य कर देतें हैं। इस प्रकार हस उस चेतना के श्रहण करते हैं जिसके द्वारा सौन्दय्ये साधार एवं अस्तित्वमय है | दम अपनी सस्कृति में एक कवि है, पश्चिम अपनी सभ्यता में एक वैज्ञानिक । स्थूलता ( पाथिवता ) के ही रहस्यों में निम्न रहने के कारण वह निष्प्राण शरीर के भी अपनी वेज्ञा- निक प्रयाग-शाला में रखने के तैग्रार है, जब कि हम उसे निस्सार सान कर महार्मशान के सिपुदें कर देते हैं। जो हसारा त्याज्य है, वह पश्चिम का श्राह्य है; इसी लिए वह उसे कन्नों और ' स्यूजियमों में सं जोये हुए है। हमारा जो श्राह्म है, से हम सँजोते है काव्य में, संगीत में, चित्र में, मूत्ति में,--व्यक्ति की स्मृति के अर्थात्‌ उसकी अदृश्य चेतना को । हमारे ये चित्र, हमारी ये मूत्तियाँ, जड़ता की प्रतिनिधि नहीं; जब हमने शरीर के ही सत्य नहीं माना तब मूत्ति के क्या सानेंगे ! हम सूत्ति के ही सम्पूण ईश्वर नहीं मानते । जब कोई मूत्ति, खशणिडत कर दी जाती है तब दम यह नहीं समकते कि इंश्वर का नाश हो गया, बल्कि पद




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :