संचारिणी | Sacharini

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sacharini by शांति प्रिय द्विवेदी - Shanti Priya Dwiwedi
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
9 MB
कुल पृष्ठ :
272
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

शांति प्रिय द्विवेदी - Shanti Priya Dwiwedi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
हर भक्ति-काल की अन्तचतनाहै। लौकिक जीवन के हमने आध्यात्मिक संस्कृति द्वारा लोकोत्तर बनाया है। पश्चिमीय सभ्यता लौकिक है, अतएव वह कला के, जीवन के, ऊपरी ढाँचे ( झाकार ) के ही देखती है, चहाँ इसी अथ में कला कला के लिए” है। किन्वु हम स॒न्दर्मू के स्थूल ढाँचे में सूक्ष्म चेतना के देखते हैं, इसी लिए सुन्द्रम से पहिले सत्यमू-शिवमू कह कर मानो साष्य कर देतें हैं। इस प्रकार हस उस चेतना के श्रहण करते हैं जिसके द्वारा सौन्दय्ये साधार एवं अस्तित्वमय है | दम अपनी सस्कृति में एक कवि है, पश्चिम अपनी सभ्यता में एक वैज्ञानिक । स्थूलता ( पाथिवता ) के ही रहस्यों में निम्न रहने के कारण वह निष्प्राण शरीर के भी अपनी वेज्ञा- निक प्रयाग-शाला में रखने के तैग्रार है, जब कि हम उसे निस्सार सान कर महार्मशान के सिपुदें कर देते हैं। जो हसारा त्याज्य है, वह पश्चिम का श्राह्य है; इसी लिए वह उसे कन्नों और ' स्यूजियमों में सं जोये हुए है। हमारा जो श्राह्म है, से हम सँजोते है काव्य में, संगीत में, चित्र में, मूत्ति में,--व्यक्ति की स्मृति के अर्थात्‌ उसकी अदृश्य चेतना को । हमारे ये चित्र, हमारी ये मूत्तियाँ, जड़ता की प्रतिनिधि नहीं; जब हमने शरीर के ही सत्य नहीं माना तब मूत्ति के क्या सानेंगे ! हम सूत्ति के ही सम्पूण ईश्वर नहीं मानते । जब कोई मूत्ति, खशणिडत कर दी जाती है तब दम यह नहीं समकते कि इंश्वर का नाश हो गया, बल्कि पद




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :