राजकमल वर्ष-बोध | Rajkamal Varsh - Bhodh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : राजकमल वर्ष-बोध - Rajkamal Varsh - Bhodh

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ओमप्रकाश - Om Prakash

Add Infomation AboutOm Prakash

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
देश श्रौर जनता मद्रास १००६ मध्यप्रान्त ` ९६४ 'बम्बई' 8२७ प्रापाम ८8६ , वंगाल ८६& सीमा-प्रान्त + , युक्त-प्रान्त ३०६ उदीसा १०६६ . पंजाव ८४७ सिन्ध यश्य ` बिहार ६४ दिल्ली “ ७१५६ १६४१ में हिन्दुस्तान मे २००३ कस्ते श्रौर ६,९६,८३२ गव थे । २७०३. कस्वोमें वह सब # स्थान ्रागण्‌ हैँ जिनकी श्रावादी ६००० से ` श्रधिक थीं श्रथवा जहाँ म्यूनिसिपेलिटियाँ छर छावनियाँ बनी थीं । ' हिन्दुस्तान के इन गाँवों में ८७ प्रतिशत जनता रहती थी, कस्वों मे १३ ` ::. प्रतिशत । कर्व श्रौर गाँवों सें रदने वाली जनता का हिसाब १८४१ से 'इंस प्रकार रहा दे : .:. आसीण नागरिक वषं गों से प्रतिशत कस्बों मे प्रतिशत १८३१ , §०.९ ३.६ “ १६०१. ३०.१ ३.६ , १६११ & ०.६ ६.४ १६२१ ` मइ््य १०.२ . १६३१. ८३ ११ १६९४१. ४८७ १२३. देश में उन शहरों की संख्या, जिनकी ध्ाबादी १ लाख से ऊपर दे ६ है । इन शहरों की कुल आबादी लगभग १ करोड ४४ लाख हे तथा इनका प्रान्तवार हिसाब यदद हैः ( १३४१ की गणना के._झनजुलार ) पश्चिमी बंगाल ` २ युक्त-प्रान्त १२ .. ` मद्रास ` “ ६ मध्य-प्रान्त २ ¦ वस्वै ˆ: '‰ - विहर . _ पूर्वी पंजाब `` ३. . रियासतं , . १४




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now