हिन्दी में अर्थशास्त्र और राजनीति साहित्य | Hindi Men Aarthashastra Aur Rajaniti Sahitya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Hindi Men Aarthashastra Aur Rajaniti Sahitya by दयाशंकर दुबे - Dayashankar Dubey

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about दयाशंकर दुबे - Dayashankar Dubey

Add Infomation AboutDayashankar Dubey

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
४ £ थशास्र साहित्य य किक उन्नीसवीं शताब्दी के ्रन्तिम भाग में यहाँ राष्ट्रीयता के भावों की ्द्धि होने से देशहितैपियों का ध्यान राष्ट्र-भापा के साहित्य त्रे विकास की शरीर रया । फलस्वरूप वीसवीं शताब्दी के श्रारम्भ से इस विपय की हिन्दी की भी पुस्तकों के दर्शन होने लगे । अयशास्त्र साहि य के भाग--ग्र्थशास््र सम्बन्धी साहित्य का धिचार करने के लिए यह ्रावश्यक है कि पहले इसके मुख्य-मुख्य भागों करा उल्लेख कर दिया जाय । सुर्भाते के लिए दम निम्नलिखित “ भाग करते हैः-- [ १ | सिद्धान्त | [ २ ] भारतीय श्रथशास्त्र | [ ३] प्राचीन भारतीय श्रथंशास्त्र । [ ४ ] आर्थिक विचारों का इतिहास । | ५ | श्रा्थिक इतिदास । मुद्रा ग्रौर करेन्सी | ~ ~ () 712 >| - ७] ८.८] विदेशी विनिमय | € ] स्टाक एक्सचेज्ञ । | व्यापार व्यवसाय | हु श्रार्थिक शरीर व्यावसायिक भृगोल। | यातायात | ३] कम्पनियां । ८] उद्योग धत (क ) वस्त्र सम्बन्धी उद्योग घं, (ख) भ्राम्य उद्योग धन्धे, (ग) न्य्‌ उव्योग धरे] [१९] ग्राम्य अर्थशास्त्र । {९६ | सहकारिता । | [ |. | ‰ |. | |. [ 9 ४ ‰ है ^ 4




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now