कसाय पाहुडं | Kasay Pahudam

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : कसाय पाहुडं - Kasay Pahudam

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about फूलचन्द्र सिध्दान्त शास्त्री -Phoolchandra Sidhdant Shastri

Add Infomation AboutPhoolchandra Sidhdant Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
विषय नाना जीवोंकी अपेक्षा भंगविचयानुगम भागाभागानुगम परिमाणानुगम क्षेत्रानुगम स्पर्शनानुगम कालानुगम अन्तरानुगम भावानुगम अल्प हत्व ३ प्रकृतिस्थान उदीरणा प्रकृतिस्थान उदीरणाका तात्पर्य उसके १७ अनुयोगद्वारोकी तथा भरूजगारादि पदोकी सूचना स्थानसमुत्कीरत॑ना स्थानोमें प्रक़तियोका निर्देश सादि आदि ४ अनुयोगद्वार स्वामित्व एक जीवकी अपेक्षा काल एक जीवकी अपेा अन्तर नाना जीवोकी अपेक्षा भंगविचय भागाभागानुगम परिमाणानुगम क्षेत्रानुगम स्पर्शनानुगम नाना जोवोकी अपेक्षा काल नाना जीवोकी अपेक्षा अन्तर सस्िकर्ष भावानुगम अल्पबहुत्व भुजगार अर्थपद १३ भनुयोगद्वारोंकी सूचना समुत्कीर्तना स्वामित्व एक जीवकी अपेक्षा काल एक जीवकी अपेक्षा अन्तर नाना जीवोंकी अपेक्षा भंगविचय ( १३) पृष्ठ २३३ ३५ ३७ ८ ३८ ४१ ७२ ४२ ४२ ४२ ४३ ५३ ०५ भ ५२ ५७ ६० ६६ ८१ ७२ ७२ ७३ ७१ ७७ ७८ ७६ ७६ ८ प्रे ट पथे र्ट ८५ पट ९४ विषय भागाभाग परिमाण क्षेत्र स्पर्चंन नाना जीवोकी अपेक्षा काल नाना जीवोंकौ अपेक्षा अन्तर अल्पबहुत्व पद्निक्षेप रे अनुयोगद्वारोंकी सुचना समूत्कीर्तना स्वामित्वके दो भेद उत्कृष्ट स्वामित्व जघन्य स्वामित्व अल्पबहुत्वके दो भेद उत्छाष्ट अल्पबहुत्व जघन्य अल्पबहुत्व बद्धिउदीरणा १३ अनुयोगद्वारोंकी सूचना समुत्कीर्तना स्वामित्व कालानुगम अन्तरानुगम नाना जीवोकौ अपेक्षा भंगविचय भागाभागानुगम परिमाणानुगम क्षेत्रानुगम स्पर्शनानुगम कालानुगम अन्तरानुगम भावानुगम अल्पबहुत्व ४ प्रकृतिप्रवेश प्रकृतिप्रवेश अधिकारके दो भेद उत्तर प्रकृतिप्रवेश अधिकारके दो भेद मूल प्रकृतिप्रवेश और एकैक उत्तर प्रकृतिप्रवेद्य अधिकार सुगम है ६४ ६५ ६५ ६६ ९७ ९८ ६६ {५०० १०० १०० १०१ १०२ १०२ १०२ ६०२ १०३ १०३ १०३ १०२३ १०३ १०४ १०५ १०९ १०७ १०७ १०५ १०८ १०६ ११० १११ १११ ११२ ११२ ११५




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now