विश्व - इतिहास की झलक भाग - 2 | Vishv Itihas Ki Jhalak Bhag - 2

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : विश्व - इतिहास की झलक भाग - 2 - Vishv Itihas Ki Jhalak Bhag - 2

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about पंडित जवाहरलाल नेहरू -Pt. Javaharlal Neharu

Add Infomation AboutPt. Javaharlal Neharu

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
९१) . ११ : १३ कार्ट मावस और सज़दर-संगठनों की वृद्ध १४ फ़रवरी, १९३२३ उन्नीसवों सदी के बीच के आसपास योरप के मजदूर और समाजवादी संसार में एक नये और प्रभावशाली व्यवितत्द वाला आदमी हुआ । यहु आदमी कालं माक्सं था, जिसका नाम इन खतो में पहले हो आ चुका है । वह एक जर्मन यहूदी था । उसका जन्म १८१८ ई० में हुआ था । उसने क्रानून, इतिहास ओर तत्वनान का अध्ययन किया आर एक अस्रवार निकाला, जिसके कारण उसका जमनी के अधि- कारियों से झगड़ा होगया और वह पेरिस चला गया । पेरिस में वह नये-नये लोगों के सम्पर्क में आया, उसने समाजवाद भर अराजकतावाद पर नई-नई कितावें पढ़ीं ओर समाजवादी वन गया । वर्ह पेरिस मं फए़डरिक एञ्जेल्स नामक दूसरे जर्मन से उसकी मुलाक़ात हुई । यह इंग्लण्ड आकर वस गया या और वहाँ रुई के बढ़ते हुए उद्योग में एक कारखाने का मालिक वन गया था । एज्जेल्स भी वर्तमान सामाजिक स्थिति से दुखी और असन्तुष्ट था और अपने चारों तरफ़ दीखनेवाली गररीवी ओर शोषण को रोकने के उपायों की तलादा कर रहा था । सुधःर-सम्बन्धी रॉवर्ट ओवेन के ख़यालात और कोशिशें उसे अच्छी लगीं और वह ओवेन का अनुयायी वन गया 1 पेरिस जाने पर उसकी काल माक्सं से पहलेपहल मुलाक़ात हुई । इससे भी उसके खयालात बदले ! भगे से माक्सं ओर एजञ्जेलस गहरे दोस्त ओर साथी हो- गय । दोनों के एक-से खयाल थे और दोनों एक ही उद्देश्य के लिए दिलोजान से मिलकर काम करने लगे । उम्र में भी दोनों क़रीब-क़रीब बरावर के थे । उनका सहयोग इतना गहरा था कि जो किताबें उन्होंने छपाई उनमें से ज्यादातर दोनों की लिखी हुई थीं । उस वक्त की फ्रांस की सरकार ने माक्से को पेरिस से निकाल दिया । यह लुई फ़िलिप का जमाना था । मार्क्स लन्दन चला गया और वहाँ वहुत वर्ष तक रहा । वहाँ वह न्रिटिश म्यूज्ियम की किताबें पढ़ने में लगा रहता । उसने खूब मेहनत करके अपने उसुल पक्के कर लिये और फिर उनपर लिखने लगा । मगर वह कोरा अध्यापक या तत्त्वज्ञानी नहीं था, जो उसूल गढ़ा करता हो और मामूली बातों से सरोकार न रखता हो । जहाँ उसने समाजवादी आन्दोलन की धूँधली विचार-रेखा का विकास किया ओर उसे स्पष्ट किया और उसके सामने निद्चित और साफ़-साफ़ विचार और ध्येय उपस्थित किये, वहाँ वह मजदूरों और उनके आन्दोलन को




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now