ब्रिटिश साम्राज्य शासन | British Samrajy Shasan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
British Samrajy Shasan by दयाशंकर दुबे - Dayashankar Dubey

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about दयाशंकर दुबे - Dayashankar Dubey

Add Infomation AboutDayashankar Dubey

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
६ तिटश साम्राज्य शासन लोग उसी जाति के थे, जिसके, पूर्वाक्त डेन लोग ये। बादशाह से ज़मीन पाकर ये बड़े बड़े सरद'र बन गये। इगलेंड के वतमान सरदार घरानों के आदमी प्राय; इन ही के वशन्र हैं । उपय क्त सब जातियो-- ज्यूट, एगल, सेक्‍्मन, डेन और नामेन--के परस्पर मिलजाने से अगरज़ 'इनॉनश) ज. त बना हैं । इसे एग्ल। सेक्मन भा कह्टत हैं ; वाध्तव मे यद शब्द श्रारम्भ में आई हुई एंगन ओर सेक्सन जा'तया के सयाग का द्यातऊक है। नार्मनो ऊ षाद हार्ड किसी विदरेरी जानत > अ्क्रार स नर्द आय! । লুল কা লিল अष विरो कर गेक्सन शरदि जातियों के अक्राए हुए तो उन धमे बुद्ध ता खड़ा पर छाओे বান্না €( দান ) चले गये थे और कुछ ने কল | जगनो में शरण की थो। वेलज़ में अब भा उन प्राचान ब्रिटन! के बराज रहते हैं ये दमा तक श्रपनी पुरानी भार का भा ब्यवहार करते हैं। अस्तु, तरह नें सदी के श्रन्तमें वेल्ज को विजय करके इंगलैएड के राज्य में मिला [लया गया | तब से हगलेरढ के बादशाह का बढ़ा लड़का 'वल्ज़ का राजकुमार या विंस-आफ़ वेल्ज़ कद्टनाता है । वतमान मदायुद्ध के पहले तक वेल्ज्ञ के लिए स्वतंत्र पालिमट स्था.पत्र॒ करन का आन्दोलन चल रहा था। स्काटलणट का मेल - इगलैएड शोर स्काटलेण्ड के बीच में ऊंचे पहाड़ द्ोने से, आरम्म में बहुत समय तक, इन देशों में पारस्परिक सम्बन्ध बहुत कम रहा | कई धार इष बात का यत्न किया गया कि ये दोनों राज्य मिल जायें | सन्‌ १६०३ ई० में इंगलेण्ड की महारानी ऐलिज़बेथ का देद्वान्त होजाने पर, स्काटलेंड का बादशाह ही निकटतम उत्तराधिकारी होने के कारण, इगलेण्ड का भी बाद शाह बना । स्काटलेण्ड में वह जेम्स षष्टम” कदल।ता था, इंगलैण्ड में उसका




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now