हिन्दी विश्व भारती | Hindi Vishav Bharati

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : हिन्दी विश्व भारती - Hindi Vishav Bharati

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्रीनारायण चतुर्वेदी - Shreenarayan Chaturvedi

Add Infomation AboutShreenarayan Chaturvedi

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
ल्लोगोंके संपर्क से मारतवर्ष में भी फलित ज्योतिष का ... प्रचार हुआ। फलित ज्योतिष के अनेक शब्द स्पष्ट रूप _ ... स्रेग्रीक उत्तत्ति के हैं। और अन्य के प्रमाण भी हैं। सत्र- इवीं, अ्रद्टारवीं और उन्नीसबीं शताब्दियों में ज्योतिष के .... अध्ययन का क्षय इतना हुआ कि बहुत-से विद्यार्थी केवल. .... उतना ज्योतिष पढ़ते थे, जितने की उनको फलित ज्योतिष ` ... के लिए आवश्यकता पड़ती थी। इसीलिए धीरिधीरे ज्यो- तिष और फलित ज्योतिष में कोई अंतर ही न रह गया। ... लोग ज्योतिष से फलित ज्योतिष ही समभने लगे। एेसी श्रहशाला इस ग्रंथ म श्रारंम से ज्योतिष शब्द बेज्ञानिक ज्योतिष .. के अ्थ में प्रयुक्त हुआ है । भविष्य में भी जहाँ कहीं मी विद्व की कहानी ` १ कदाचित्‌ यह कहना किं उस समय के ऋषि सूय आदि भी वेध जन-साधारण थोडे-से श्रभ्यास के वाद सुगमतासे ` की स्थिति श्रौर मनुष्य के भाग्य म कोई सवं जोड़ना ক कर सकते हैं, या वे नवीन युच्छुल तारों की खोज कर सकते... .. अनुचित समझते थे, अधिक उपयुक्त होगा | पीछे ग्रीक _ है . परन्तु इन सबके लिए बड़े घैय की आवश्यकता है इन दिनों ज्योतिष में सर्व-साधारण की रुचि बढ़ती ही. जा रही है और कितने धनी सजन ज्योतिष में खोज करने... के लिए काफ़ी धन दे जाते हैं | दुनिया-मर में सबसे बड़ी ` वेधशाला, जो अमेरिका में माउण्ट विल्सन पर है, एक सजन के दान से ही स्थापित हुई है। कई धनी लोग ` अपने मकानों में निजी वेधशाला बनवा लेते हैं ৮8 भी बनी हैं, जिनकी छुते अध-गोला- कार होती हैं और सिनेमा-यंत्र की तरह बनी मशीन से इन. छतों पर प्रहों ओर नक्षत्रों के चित्र डालकर उनकी गति _ इृष्टिगोचर कराई जाती है । ज्योतिष की बहत-सी बातें और उनकी यथार्थताका पहले भी विशुद्ध ज्यो- ` तष की ये सजीव प्रमाण हैं। . प्रमाण प्रत्येक शिक्चित व्यक्ति समभ सकताहै। जिन तो सिद्धांतों पर तक करके ओर रीतियों का प्रयोग करके রর व आधुनिक ज्योतिष ने तारो की दूरी, तोल; वनावरच्रादि से काज्ञानप्राप् क्रिया है, उनका समभना पाठक केलिए . कठिन न होगा । इसलिए प्रस्तुत ग्रंथ में केवल ज्योतिष के... . परिणाम ही नहीं बतलाए जायेंगे ; वरन्‌ इस बात के सम- . भाने की भी चेष्ठ की जायगी कि ज्योतिषीगण कैसे और... . क्यों किसी परिणाम पर पहुँचे हैं। मेरा विश्वास हैकि . परिणामों की अपेक्षा उनके प्राप्त करने की रीतियाँ अधिक... न मनोरंजक प्रतीत होंगी ; जैसे, यह जानकर कि श्रुवताया 1 प ,०;००००;००००,०९५ मील दूर है, इतना आनद्‌ नहीं দে श्‌ | मिलता; जितना इसे समम तेने मेकियह दूरीनापीकेसे गई । = हाल में .. - जयपुर की वेघशाला.... इस तरहषीवेष- शालाए उज्जैन, काशी : है और दिल्ली में भीहैं। | জান में आधुनिक ` विज्ञान के विकास के ` ओर कितनी... अधिक रूचि थीइ्सकी `:




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now