कसाय पाहुडं | Kasay Pahudam

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : कसाय पाहुडं - Kasay Pahudam

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about फूलचन्द्र सिध्दान्त शास्त्री -Phoolchandra Sidhdant Shastri

Add Infomation AboutPhoolchandra Sidhdant Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प्रस्तायना ९ करणसम्बन्धी विशेष विचार आयुकर्ममेसे नरकायुके बन्धनकरण और उत्कर्षणकरण मिश्यात्वगुणस्थानमें ही होते हैं। संक्रम करणको छोड़कर शेष पांच करण, उदय सौर सतव चौथे गुणस्थान तक होते हैं। লিষ- ञन्वायुके बन्धनकरण ओर उत्कर्षणकरण दरसरे गुणस्थाय तक ही होषि है । संकरमकरणको छोडकर शेष पाच करण, उदय मौर खट्व पांचवे गुणस्थान तक होक हैं। . मनृध्यायुके बन्धनकरण ओर उत्कषंणकरण चौथे गुणस्थान तक होते हैँ । उदोरणाकरण प्रमत्तसंयतगुणेस्णान तक होता है । अपकषंणकरण १३वे गुणस्यान तकं होता है । संकमकरणके विना भक्रलस्त उपकामनारकरण, निकाचनाकरण और निधत्तीकरण अपूवंकरणके अन्तिम समय तक होते ह । तथा उदय भौर सस्व अयोगिकेवेन्ी गुणस्थान तक होते ह । तथा देवायुके बन्धनकरण और उत्करषंणकरथ अप्रमत्तगुणस्थान तक होते है । अपकषंणकरण ओौर सत्वं उपश्चान्तकष्षाय गुणस्थान होते हैं। उदध और उदोरणा असयत सम्यग्दृष्टि गुणस्थान तक होते है तथा अप्रशस्त उपल्ञामनाकरण, निधत्तीकरण ओर निकाचनाकरण <वें गुणस्थानके अन्तिम समय तक होते ह । सका मी संक्रम- करण नही होता । साता वेदनीयके बन्धनकरण ओर अपकषषंगकरण सयोगिकेवली गुणस्थान संक होते है । उत्कषंणकरण सूष्ष्मसाम्यपराय गुणस्थान तक होता है । उदीरणाकरण और संक्रमकरण प्रमत्त सयन गुणस्थान तक होते है । उपशामनाकरण, निधत्तीकरण ओर निकाचनाकरण अपूवंकरणके अन्तिम समय तक होते है । उदय भौर सतव अयोगिकेवली गुण स्थान तक होते ह । भस्तातावेददनीय के बन्धनकरण, उत्कषंणकरण ओर उदौरणाकरण प्रमत्तसंयत गुणस्थान तक होते हैं। सक्रम- करण सूर्मसाम्परायगुस्थान तक होता दै । अपक्षंणकरण सयोगिकेवली गुणस्थान तक होता है । उपशामनाकरण, निधत्तीकरण और निकाचनाकरण अपूरवंकरणके अन्तिम समय तक होते है । उदय भरो - स्व अयोगिकेवलौ गुणस्थानके अन्तिम समय तक होते है। मोट गीय कर्मके भपवतंनाकरण ओर उदीरणाकरण सूक्ष्मसाम्यरायमे एक समय अधिक एक भावि काल शेष रहने तक होते है । उदय इसकं भन्तिम समय प्तक होता है । बन्धनकरण उत्कषंणकरण ओर सक्रमकरण अनिवृत्तिकरणके विवक्षित स्थान तक होते है। अप्रशस्त उप- शामनाकरण, निधत्तीकरण ओर निकाचनाकरण अपूवंकरण गुणस्थानके अन्तिम समय तक होते है । नथा सचव उपान्त मोहुके अन्तिम समय तफ होता है । शेष ज्ञानावरण, दशनावरण मौर अन्तराय कर्मके अपवततंनाकरण भौर उदीरणाकरण क्षीणभोह गुणस्थानमे एक समय अधिक एकं आवलि काल शेष रहने तक होते ह । उदय भौर सत्त्व अतम समय तक होते हैँ । बन्धनकरण, उत्कषणकरण भौर संक्रमकरण सुदमसाम्पराग्र गुणस्थान तकं होते है । उपक्लमनाकरण, निधत्तीकरण मौर निकाचनाकरण अयपुरवंकरण गुण- स्थानके अन्तिम समय तक होते है । नाम ओर गोत्र कर्मके बन्धनकरण, उर्कषंणकरण भौर संकमकरण सूक्ष्मसाम्परायगुण- स्थान तक होतेह! उदीरणा ओर अक्घेणकरण सयोगकेवली गुणस्थानके अन्तिम समय तक होते हैं। उपद्रामनाकरण, निधत्तीकरण भौर निकाचनाकरण अपू्ंकरण गुणस्थानके अन्तिम समय तक्र होते है । उदय ओर सस्व अयोगकेव्लीगणस्थानङ़े अन्तिम समय तक होते है । उपशामनाक भेद उपशामना दो प्रकारकी होती है--सव्याघात उपशामना और निर्व्याघाल उपशामना । यदि नपु सक वेद आदिका उपशम करते समय बीचमे ही मरण हो जाता है तो वह सब्याधात २




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now