संचिता | Sanchita

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : संचिता - Sanchita

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ठाकुर गोपालशरण सिंह -Thakur Gopalsharan Singh

Add Infomation AboutThakur Gopalsharan Singh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
संचिता जनवरी, १६१६ मार्गगा मे कमी न तुमसे, कोरे भी उपहार । मेरे हृदय-धाम में होगा, जहाँ तुम्हारा वास | तहाँ शीघ्र में हो जाऊँगा, निश्चय उच्च उदार । स्वार्थ कपट ३्षां का मन में, नहीं रहेगा लेश। उन्हं बहा देगी पल भर में, पावन दृग-जल-धार । क्रोध, विरोध, मोह) मद, मत्सर, लोभ, क्षोभ, अभिमान | सभी तुम्हारे प्रबल अनल में, होंगे जल कर क्षार | में न करूंगा कभी भूलकर, अपने मन का काम | मुझ पर होगा प्रेम! तुम्हारा, सदा पूण-अधिकार । गाऊँगा में सदा तुम्हारे, स्वर में जीवन-गीत । होगा लीन तुम्हीं में मेरा, सुख-दुखमय संसार ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now