संचिता | Sanchita

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : संचिता - Sanchita

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ठाकुर गोपालशरण सिंह -Thakur Gopalsharan Singh

Add Infomation AboutThakur Gopalsharan Singh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
दया क्षमा ममता आदिक हैं, तेरे रतां के भाण्टार; हैं निमल जल, शुद्ध वायु ही, तेरे जीवन के उपहार | छल से रहता दूर किन्तु तू, बल-पोरुष ,, में हे भरपूर; तेरे जीवन-धन हैं जग में, बस किसान एवं मज़दर । कोयल तुभे सुना जातौ है, मधुमय ऋतुपति का सन्देश; खेतों मे पोघे उग-उग कर, देते हैं तुकका उपदेश | जग को जगमग करनेवाला, है तुकमें न प्रकाश महान; पर मिट्टी के ही दीपक से, रहता है तू ज्येोतिष्यान । 9 आस




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now