नरेश मेहता के साहित्य में संस्कृति बोध | Naresh Mehata Ke Sahitya Mein Sanskriti Bodh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Naresh Mehata Ke Sahitya Me Sanskriti Bodh by डॉ. राम कमल राय - Dr. Ram Kamal Rai
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
24 MB
कुल पृष्ठ :
266
श्रेणी :

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

डॉ. राम कमल राय - Dr. Ram Kamal Rai के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
13प्म्बन्ध मानव-जी वन और मानव व्यवहार कै र आवश्यकं नैतिक मूल्यो से है ।भारत ध्म प्राण देश है।यहा' कि नियो, प्ाड्, कृं पहु-पशुओं आदि में धर्म पानी में मित्री की तरह धुल-मलं गया है । उस वेश के किती भी अश ये चाहे वड राजनीति ही क्‍यों न हो हटाया नही जा सक्ता । केले के स्तम्भ की पर्तोंकी तरह देश की प्रल्येक पर्त॑ में ठयापक अर्थ में धर्म साई देगा । देश की संस्कृति का आन्तरिक निर्माण - काव्य, सगीत, नृत्य, चित्रकला धर्म से बनता है । देश की सास्कृतिक पहचान घामिक काठ्य ग्रथ - वेद , उपिधदृ्‌, रामायण , महाभारत, राम, कृष्ण, बुद्ध, महावीर, राम्कृष्णा परमहस, विवेकानन्व, महात्मा गाधी, कोणार्क, खजुर, अजन्ता ताज महल, भज्‌, तानसेन, हरदास, क्नाटकं संभीत, भरतनाट्यम, अडिषौ , कृचिपुदी , क्थक्लौ , कल्थक आदि को हटा देने पर देश की पहचान क्या बनेगी अर्थात ध्म भारतीय संस्कृति की अत्मा है? कहना न हग कि समस्त क्लाधिक्ल साषठित्य ओर कलार धर्म से अनुप्राणित है । धर्म अनुभूति है, स्वेदना है। धमनुमूति का वैसा ही महत्व है भसा काव्यानुभूति का । सास्कतिकं सुद के लिए वीनों गै सस्त कृत है ।ससार क আন यँ सक्ता कैसे लायी जाय हसका समाधानअज तकं नही हौ सका । प्राची नकाल म॑ अनेक लीग यह मानतेये-किजौ ध्म सर्वोत्तम ही, संसार भर के लोगों को उसी घर्म में दीचियत हो जाता चाहिए । 893 ॐ० मँ शिकागौ ( अमएका ) में जो विश्व धर्म सम्मैलत हुआ था । उसका भी आशय यही था कि सर्वोत्तम धर्म कौन सा है, हसका 1निणय कर लिया जाय किन्तु विवैकानन्व के विचारों से सभी प्रतिनिधि चमत्कृत ही उठे । उन्होंने कहा {किं + याँवि कोई ठयाक्ति यह समकाता हैं कक घारमिक एकता का मार्गআট ও ডিক त न न (जाः कक वनि| साले রাহি ছা বি রাজ ওটা নাভী অর তত রি চা রিট ডিबन्धु ? तुम्ठारी आशा पूरी नहीं होगी । क्‍या मैं यह सोचता हूं कि सभी ईसाईशः ता थ सम বত ডিজি ও স্তর ভি टर कि




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :