सुगम चिकित्सा | Sugam Chikitsa

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sugam Chikitsa by आचार्य श्री चतुरसेन वैद्य शास्त्री - Aachary Shree Chatursen Vaidy Shastri
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :5.51 MB
कुल पृष्ठ :222
श्रेणी : ,


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

आचार्य चतुरसेन शास्त्री - Acharya Chatursen Shastri

आचार्य चतुरसेन शास्त्री - Acharya Chatursen Shastri के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
नकल ११ . -तन्दुदस्ती भाड-फूंक कराते हैं और सुफ़्त में अपनी जान देते हैं । उन्हें जानना चाहिए कि वीमारी पैदा होने के कई अलग-अलग कारण होते हैं । बहुत-सी बीमारी तो खास किरम के कीड़ों से होती हैं । ये कीड़े इतने बारीक होते हैं कि आँखों से नहीं दीखते । ये या तो खाने पीने की चीजों के साथ या . साँस के साथ पेट में पहुँच जाते हैं और रोग पैदा कर देते हैं। छुछ वीमारियाँ खान-पान की गड़बड़ी और रहदन-सहदन की खुराबी से होती हैं । इसलिए जुरूरी है कि तन्दुरुस्ती कायम रखने के लिए नीचे लिखी बातों का पूरा- पूरा खयाल रखा जाय-- १--दल्का ताजा सादा भोजन ठीक समय पर करो और साफ़ पानी पियो 1 २--खुली हवा और धूप में रहो । ३--ठीक समय पर पाखाना पेशाब जाओ और आँख- नाक को साफ़ रखो--अच्छी तरह स्नान करो | ४--सर्दी और गर्सी के झचानक हमले से शरीर को बचाओ | ४--धघूल-गदे भीड़भाड़ और गंदगी से दूर रहो । ६--खूब मिहनत करो और खूब आराम करो । आराम और काम का समय पक्का करलो । ७--किसी क्रिस्म का नशा न करो भंग शराब गांजा सुलफ्ा अफीम चाय चाट-पानी और मिर्च-मसालों से दूर रहदो। ८-चीमार पड़ने पर पूरा आाराम करो और समभकदार डाक्टर या वेद्य से इलाज कराओ ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :