सुगम चिकित्सा | Sugam Chikitsa

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sugam Chikitsa by आचार्य श्री चतुरसेन वैद्य शास्त्री - Aachary Shree Chatursen Vaidy Shastri
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 5.51 MB
कुल पृष्ठ : 222
श्रेणी :
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

आचार्य श्री चतुरसेन वैद्य शास्त्री - Aachary Shree Chatursen Vaidy Shastri

आचार्य श्री चतुरसेन वैद्य शास्त्री - Aachary Shree Chatursen Vaidy Shastri के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
नकल ११ . -तन्दुदस्ती भाड-फूंक कराते हैं और सुफ़्त में अपनी जान देते हैं । उन्हें जानना चाहिए कि वीमारी पैदा होने के कई अलग-अलग कारण होते हैं । बहुत-सी बीमारी तो खास किरम के कीड़ों से होती हैं । ये कीड़े इतने बारीक होते हैं कि आँखों से नहीं दीखते । ये या तो खाने पीने की चीजों के साथ या . साँस के साथ पेट में पहुँच जाते हैं और रोग पैदा कर देते हैं। छुछ वीमारियाँ खान-पान की गड़बड़ी और रहदन-सहदन की खुराबी से होती हैं । इसलिए जुरूरी है कि तन्दुरुस्ती कायम रखने के लिए नीचे लिखी बातों का पूरा- पूरा खयाल रखा जाय-- १--दल्का ताजा सादा भोजन ठीक समय पर करो और साफ़ पानी पियो 1 २--खुली हवा और धूप में रहो । ३--ठीक समय पर पाखाना पेशाब जाओ और आँख- नाक को साफ़ रखो--अच्छी तरह स्नान करो | ४--सर्दी और गर्सी के झचानक हमले से शरीर को बचाओ | ४--धघूल-गदे भीड़भाड़ और गंदगी से दूर रहो । ६--खूब मिहनत करो और खूब आराम करो । आराम और काम का समय पक्का करलो । ७--किसी क्रिस्म का नशा न करो भंग शराब गांजा सुलफ्ा अफीम चाय चाट-पानी और मिर्च-मसालों से दूर रहदो। ८-चीमार पड़ने पर पूरा आाराम करो और समभकदार डाक्टर या वेद्य से इलाज कराओ ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :