ईसा की सिखावन | Iisaa Kii Sikhawan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : ईसा की सिखावन  - Iisaa Kii Sikhawan

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

लियो टालस्टाय - Leo Tolstoy

No Information available about लियो टालस्टाय - Leo Tolstoy

Add Infomation AboutLeo Tolstoy

संतराम विचित्र - Santram Vichitra

No Information available about संतराम विचित्र - Santram Vichitra

Add Infomation AboutSantram Vichitra

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
घमदिद १५ गुनहगार है ओर उस हालत में तो वह और भी ज्यादा गुनहगार है, जबकि वह अपने भाई को गालियाँ देकर कड्वी बातें कहता है । इसलिए अगर आप प्रार्थना करना शुरू करते हैं और आपको याद आता है कि आप अपने भाई के साथ गुस्सा हैं तो पहले जाकर उसके साथ सुलह कीजिए † या अगर अप किसी कारण बेसा नहीं कर सकते तो आपके दिल में उसके प्रति जो गुस्सा है, उसे दूर कर दीजिए । शयह है पहला आदेश । “दूसरा आदेश यह है : पुराने “र्म-प्रंथ' में कहा गया था, “व्यभिचार मत करो, और अगर आप अपनी पत्नी से अछग होते हैं तो उसे तलाक दीजिए ।” “लेकिन मेँ आपसे कहता हूं कि न केवल मनुष्य को व्यभिचार नहीं करना चाहिए, बल्कि अगर वहु किसी स्त्री को अपने मन में बुरे विचार रखकर देखता है तो परमात्मा के समक्ष तो वह गुनहगार है ही । और तलाक के विषय में में आपको बत- लाता हूँ कि जो आदमी अपनी पत्नी को तलाक देता है, वह खुद व्यभिचार करता है, और अपनी पत्नी से भी वेसा कराने का कारण बनता है, साथ ही उसे भी गुनहगार बनाता है, जो तलाक दी हुई स्त्री के साथ ब्याह करता है । “यह है दूसरा आदेश । “तीसरा आदेश यह है : पुराने 'धर्मे-प्रंथ में आपको बताया गया था, “कसम न खाओ, किन्तु परमात्मा के समक्ष अपनी ` प्रतिज्ञाओं पर स्थिर रहो ।” “लेकिन मे कहता हूँ कि आपको हरगिज कसम नहीं खानी चाहिए, लेकिन अगर आपसे किसी बारे में पूछा जाय तो




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now