पराशर संहिता | Parashar Sanhita

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Parashar Sanhita by अज्ञात - Unknown
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 2.94 MB
कुल पृष्ठ : 62
श्रेणी :
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अज्ञात - Unknown

अज्ञात - Unknown के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
नवमसो ध्याय । ९ परिघत््त य तेघां थे सचसयुणितिय्वपि ॥ २९ . चघा काछमयो हस्ती यघा चम्स मयो ग्टग 1 नामधारका ॥ र३ ... य्रामस्थानं यघा य्यून्य यथा कूपस्तु निच्लैल । यथा हुतमनसो च व्यमन्त्रो श्नात्मणस्तथा ॥ २४ यघा स्त्रौपु था गौंस्टघराफला | यथा दान तथा 1 २४ चित्र कम यघाने कैर डी रुन्सील्यते शरगें । तदत स्यातु संस्कार वि धिपूर्स के ॥२६ ग्रायन्वित्त प्रथच्छन्ति ये हिला । ते समेता नरक ययु ॥ २७ थे पठन्त दिना वेद ये । दे लोवयं घारयन्त्य ते पर्स ॥ रुप सस्प्रगीत श्सशानिषु दौप्नोइसि सव्वभचाक । तथेवर नानवानु विष सरमभक्त झ ॥ २४- व्यरमेध्यानि च सम्नाणि प्रच्तिप्र्सुद्दके चघा । तथेत्र किस्लिघं सँ्नें प्रचेप्रदां दिजेएसले ६ ३० गायतबीरितो विप्र स्वादप्यशुचिभंवेतु । गायब्रीब्रस्मतत््तज्ञा सस्यूच्जन्ते दिजोत्तमा। ॥ ३९ डु शौलीईपि दिज पूज्यो न । कः परिद्यज्य दुष्ठां गां दुद्देच्छोलवतीं खरीम्‌ ॥ ३२ घम्म वैदखड्गधरा दिला । ज्रौड़ार्धमपि यदुन्रूचु स धर्म परम सदत ॥ ३६ वातुव्व दोईवि कल्पी च पाठक । सुख्या परिषत्‌ स्पुदेशावरा ॥ ३० राज्ञाचाकुमति चैव प्रांयच्चित्त दिजो बढ़ेतु । स्वयमेव न वक्त प्रायश्वि्तस्थ निष्वुति ॥ ४. न्नात्मर्था् व्यतिक्रम्य राजा यतृ करत मिच्छति । तवु पापं शतधा सूत्वा रानानसुपगच्छति ॥ ३६ प्रायस्थित्त सदा ददा।इवलायतनाखत । व्यात्मान पावयेतु पप्नावनपनु वे वेदमातरम ॥ ३७ सिख वन छृत्वा त्िसन््यमवगाइनमु । गवां गोछे दिवा ता समजुनजेतु ॥ ३८ उ्णा व्घ॑ति-शौते वा मारुते वाति वा स्टशम्‌ । न कुर्वोताह्मनस्त्र णं गोरछात्वा तु शक्तित ॥ दुध व्याह्मनो यदि वान्येषा चेत्र एय्वा खले । मच्षचन्तीं न कथयेत पिवन्तप्लेव वत्सकमु ॥ ४० पिवन्तीप् पिवेत तोय॑ संविशन्तोषु संविशेतृं । पतितां वा खलप्रारी रेत ॥ 8४ गवाधे वा वस्तु प्राणान परित्यजेतु । सुच्यते न्नषम-ह्व्यादौर्गोप्ता गोन्नाझणस्य च ॥ ४३ गोवधस्याबुसूपेण प्राजापत्य । प्रानाप्यन्तु यत॒ु झ्नच्छ विभजेतु ॥ ४६ रकान्षमेकभक्ताशी सका । व्यरयाचिताश्यकमछरेकादँ सास वाशन ॥ 88 दिनवयच्षे कभक्तो दिदिये नत्ताभोजन । द्नदवभवाची स्यातु लिदिनं ॥ 89. त्िदिनयोकभक्ताशी लिदिन नत्तभी जन । दिनलयसयाची स्वातृ त्रिदिनें सारताशन ॥ 8६ चतुरदचन्तत कम क्ताशी चतुरष्ें नक्तभोजन । चतु्दिनिमयाची स्ताचतुरक्ते सारताशन ॥ ४9 प्राथ्चिसे ततस्वीण । विप्रांथ दच्तिणां पवित्नाणि जपेद्िज । न्नाझणान्‌ भोजयित्वा तु गोन्न शुद्लो न संशय ॥ ४3 इति घाराशरे घम्स शास्त्र च्य मो ध्याव ॥ ८ ॥ पिन नवसीःध्याय । गवां संरक्षणा्धाय न दुष्येद्रोधवन्वयो । तदधन्तु न त॑ विद्यात्‌ तथा ॥ ९ व्यज्भुमात स्यूलो वा घ्रमाणत । द्याइस्तु सपलाश्व दण्ड इत्यमिधीयति ॥ २ दण्डाटूसे यदन्यन प्र्रेदा निपातयेतु । प्रावस्वितत चरेत प्रोक्त दिगुण शोनतव्वरेत ॥ डू रोधवन्वनवोक्ता।खणि.वातनप्र चतुल्विधम । रकपादं चरेद्रोधे दिपादं बन्घने चरेतु ॥ 8 योक्ती पु पादचौनं स्पा रेत सत्वे निपातने । गोचरे च सच्चे वापि दुगप्वप समेव्वपि ॥ ५. नदौय्वपि ससुद्ेधु खाते८प्यय दरोसुखे । दग्चदेपरी स्थि पा गावस्तम्मनादोध उच्चते ॥ हू ..




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :